योग को बेहतर बनाने के नियम

philosophical rules for better yoga

योग का अभ्यास करने से आपकी शारीरिक और मानसिक स्थिति मजबूत और सक्रिय बनती है। योग का नियमित अभ्यास करने से आप अध्यात्म की प्राप्ति कर सकते हैं, जिससे आपकी आन्तरिक शांति बढ़ती है और आपकी जिंदगी ज्यादा आनंदमय तथा आरामदायक बन जाती है। योग को बेहतर बनाने के लिए योग दर्शनशास्त्र के अनुसार पांच नियम होते हैं, जिन्हें अपनाने के बाद आपको योग के बेहतर और प्रभावशाली परिणाम प्रदान करता है। तो आइए आपको योग के नियमों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: अत्यधिक गुस्से को शांत करने के लिए कौन से योगासन करने चाहिए]

शौच: शौच का मतलब है कि योग का अभ्यास करने से पहले आप शरीर और दिमाग का शुद्धिकरण किया जाए, क्योंकि अध्यात्म प्राप्त करने के लिए आपका पूरी तरह शुद्ध होना जरुरी है। इसके लिए आपको प्राणायाम और आसनों का अभ्यास करना चाहिए। इसके साथ ही अपने आसपास का वातावरण भी साफ रखें और खूब पानी पिएं जिससे आपके शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर आ सकें।

संतोष:
philosophical rules for better yoga संतोष को अपनाने से आप ज्यादा खुश रहते हैं, क्योंकि आपको अतिरिक्त चीज या व्यक्ति का लोभ नहीं रहता है। असंतोष व्यक्ति का दिमाग काफी परेशान और अशांत रहता है, जिससे वह योग के दौरान ध्यान नहीं लगा पाता है। [ये भी पढ़ें: अधिक कैलोरी बर्न करने के लिए उपयोगी योगासन]

तप: तप से मतलब है कि अपनी क्रियाओं और मन को नियंत्रण तथा संतुलन में रखना होता है। जिससे आपके अन्दर नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इस नियम को अपनाने से योग का प्रभाव बढ़ जाता है, क्योंकि आपके अन्दर ऊर्जा और समयनिष्ठता आती है।

स्वाध्याय: स्वाध्याय के अन्दर आपको आत्म-चिंतन करना होता है। दरअसल खुद को बेहतर बनाने के लिए आपको नियमित आत्म-चिंतन करना चाहिए। आत्म-चिंतन से आप अपनी असली शक्ति और कमजोरी को पहचान पाते हैं और सही-गलत का फैसला ले पाते हैं। जिससे आप अपनी कमजोरी को शक्ति में बदल सकते हैं।

ईश्वर-प्रणिधान: ईश्वर-प्रणिधान से मतलब होता है समर्पण और अस्वार्थ। इस नियम को अपनाने से आप जो कुछ भी कार्य करते हैं या फैसला लेते हैं, वह सिर्फ अपने फायदे के लिए नहीं बल्कि जनमानस और दूसरे व्यक्तियों के हित को ध्यान में रखकर करते हैं। जिससे आपके अन्दर से अहंकार और हिंसा खत्म होती है और आपका चरित्र साफ होता है। [ये भी पढ़ें: फोन इस्तेमाल करने की वजह से शारीरिक नुकसान को सही करने के लिए योग]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "