क्या है कुण्डलिनी योग और उससे होने वाले फायदे

Kundalini yoga and its health benefits

संपूर्ण फिटनेस के लिए योग बहुत फायदेमंद होता है। योग करने से शरीर को कई फायदे मिलते हैं। योग की मदद से मसल्स को मजबूती, लचीलापन, मेटाबॉल्जिम को संतुलित करने के साथ यह वजन कम करने में मदद करता है। योग करने से फिट रहने के साथ तनाव दूर करने में और दिमाग को शांत रखमे में मदद मिलती है। योग भी कई तरह के होते हैं एक में आपका शारीरिक वर्कआउट होता है तो दूसरे में दिमाग और मन को शांत किया जाता है। कुण्डलिनी योग इन दोनों का मिश्रण होता है। शारीरिक एक्सरसाइज के साथ अध्यात्म के लिए कुंडलिनी योग मददगार है। तो आइए आपको कुण्डलिनी योग के बारे में और उसके फायदों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: योग का अभ्यास करने से कौन से फायदे मिलते हैं]

क्या है कुण्डलिनी योग: कुण्डलिनी योग को लया योग भी कहते हैं। कुण्डलिनी योग में कुण्डिलिनी ऊर्जा को मेडिटेशन के माध्यम से जाग्रत किया जाता है। इसमें मेडिटेशन के साथ प्राणायाम, मंत्रों का उच्चारण भी किया जाता है।

कुण्डलिनी योग करने की विधि:

खुद को तैयार करें: किसी भी तरह के योग करने से पहले अपने शरीर को उसके लिए तैयार करना जरुरी होता है। ऐसा करने से आपके अंदर ऊर्जा बढ़ती है जो मेडिटेशन के दौरान मददगार होती है। कुण्डलिनी योग करने के लिए सबसे पहले पैरों को क्रॉस करके बैठ जाएं और अपने हाथों को प्रार्थना की की स्थिति में कर लें। इस समय ध्यान रखें कि आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए। इसके बाद आंखों को बंद करके मंत्रों का जाप करते हुए तीसरी आंख पर ध्यान लगाएं। [ये भी पढ़ें: इटिंग डिसऑर्डर के लिए योगासन]

सांस लेने से शुरुआत करें: कुण्डलिनी योग में गहरी सांस लेना बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह आपके शरीर को आराम पहुंचाने में मदद करता है। इसके तीन चरणों में करें। सांस को पेट से ऊपर सीन पर महसूस करें।

कुण्डलिनी योग के फायदे:

नकारात्मकता से दूर रखता है: कुण्डलिनी योग की मदद से आप खुद को नकारात्मकता से दूर रख पाते हैं। यह औरा को मजबूत बनाने में मदद करता है। जिसकी मदद से आप नकारात्मकता से दूर रह पाते हैं।

आंतरिक दिशा निर्देश: कुण्डिलिनी योग दिमाग की शक्ति को बढ़ाने में सुधार करता है। यह आपके विचारों और भावनाओं को सकारात्मक बनाने में मदद करता है।

अन्य फायदे:
1-कुण्डिलिनी योग करने से आपकों अच्छा महसूस होता है। साथ ही आप स्वस्थ रहते हैं।
2-शरीर में ऊर्जा लेवल को बढ़ाने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: घर पर योग का अभ्यास शुरू करने के लिए जरुरी टिप्स]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "