जाने क्या है योग निद्रा और क्या है इसके फायदे

how to do yog nidra and what are its benefits

रोजाना योग करना व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ करता है। विभिन्न तरह के योगासन विभिन्न रूप से शरीर और मन पर सकरात्मक प्रभाव डालते हैं। रोजाना एक योगा सेशन के प्रभाव को बढाने के लिए योग करने के बाद योग निद्रा से योगा सेशन को खत्म करना योग क्रियाओं के सकारात्मक प्रभाव को बढ़ाता है। योग निद्रा शरीर में ऊर्जा का संचार करती है तथा शरीर को अगले योग सेशन के लिए प्रभावशाली तरीके से तैयार करती है। आइये जानते हैं योग निद्रा से होने वाले फायदे और इसे करने के तरीके के बारे में। [ये भी पढ़ें: उज्जायी प्राणायाम करने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ]

योग निद्रा करने से पहले इन बातों पर ध्यान रखें:

  1. योग निद्रा लेते समय पेट को खाली रखें। खाना खाने के पश्चात योग निद्रा न लें।
  2. योग निद्रा लेने के लिए एक शांत जगह का चुनाव करें।
  3. योग निद्रा के बाद कई लोगों को ठंड का अनुभव होता है इसलिए साथ में एक हल्का कम्बल जरुर रखें।

योग निद्रा लेने के तरीके:

    1. सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। अपने आंखों को बंद करें तथा रिलैक्स रहें। धीरे-धीरे सांसे लें और छोड़ें।
    2. अपना ध्यान अपने दायें पैर की तरफ दें और कुछ देर तक अपने दायें पैर को रिलैक्स करें। फिर अपना ध्यान दायें घुटने, दायें जांघ और दायें नितम्ब तक ले जाएं।
    3. स्टेप नंबर 2 बाएं पैर से दोहराएं।
    4. अब अपना ध्यान जननांगों, पेट, नाभि और छाती की तरफ ले जाएं।
    5. अब अपना ध्यान दायें कंधे, दायें हाथ, दायें हथेली और दायें अंगुलियों की तरफ करें और ये प्रक्रिया फिर बाएं तरफ भी दोहराएं।
    6. एक गहरी सांस लें और शरीर में हो रहें सेंसेशन( सनसनी) को महसूस करें और कुछ पल के लिए रिलैक्स रहें।
    7. अब अपने पूरे शरीर पर ध्यान देने के बाद और अपने आस पास के वातावरण को महसूस करने के बाद दायीं करवट के बल कुछ देर आराम करें।
    8. कुछ देर इसी मुद्रा में आराम करने के बाद, धीरे धीरे अपनी आंखें खोलें।

[ये भी पढ़ें: बाह्य प्राणायाम करने की सही तकनीक और इससे होने वाले फायदे]

योग निद्रा के फायदे:

    1. योगासन के बाद शरीर शांत और ठंडा रहता है।
    2. शरीर का तापमान सामान्य रखता है।
    3. योग आसन के प्रभावों को अवशोषित करने के लिए नर्वस सिस्टम को सक्रिय करता है।

[ये भी पढ़ें: पैरों को मजबूत बनाने के लिए करें ये योगासन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "