Natarajasana Benefits: नटराजासन करने की विधि और इसके लाभ

Natarajasana Steps And Benefits

नटराजासन एक लाभकारी योगासन है जिसका नाम हिंदु देवता शिव के नाम पर पड़ा है।

Natarajasana Benefits: आजकल की भागादौड़ में हम अपने लिए समय नहीं निकाल पाते हैं जिसके कारण हमारे शरीर का स्वास्थ्य प्रभावित होता है। अगर आप वर्क-लाइफ को बैलेंस करना चाहते हैं तो आपको योग इसमें मदद कर सकता है। इसलिए योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। दिनभर में 20-30 मिनट के लिए योग का अभ्यास करने से आप दिनभर उर्जावान रहते हैं, वजन नियंत्रित रहता है, शरीर स्वस्थ रहता है और दिमाग तरोताजा रहता है। नटराजासन एक लाभकारी योगासन है जिसका नाम हिंदु देवता शिव के नाम पर पड़ा है। इस आसन के अभ्यास के लिए आपको प्रैक्टिस की जरुरत होगी लेकिन जल्द ही आप संतुलन बनाना सीख जाएंगे। आइए जानते हैं नटराजसन करने के लाभ और इसे करने की विधि। [ये भी पढ़ें: उत्कटासन करने की विधि और लाभ]

Benefits of Natarajasana: नटराजासन कैसे करें और इसके क्या लाभ हैं

  • नटराजासन कैसे करें
  • नटराजासन करने के लाभ

नटराजासन कैसे करें

  • नटराज आसन करने के लिए योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और अपने हाथों को साइड में सीधा रखें।
  • अब सांस लेते हुए सीधे पैर को शरीर के पीछे की तरफ मोड़ें और सीधे हाथ से पैर को टखने से पकड़ें।
  • अब सीधे पैर को जितना हो सके ऊपर की ओर उठाएं। इस दौरान इसे हाथ से पकड़े रहें।
  • अपने उल्टे हाथ को अपने सामने सीधा फैलाएं। शुरुआत में आप किसी और व्यक्ति की मदद ले सकते हैं।
  • अभ्यास करते वक्त गहरी सांस लेते रहें और संतुलन बनाने की कोशिश करें।
  • इस स्थिति में 20-30 सेकेंड के लिये रुकें।
  • अब धीरे-धीरे सामान्य आसन में आ जाएं।
  • इसी आसन को दूसरे पैर के साथ दोहराएं। इसी तरह 3-4 बार इस आसन का अभ्यास करें।

नटराजासन करने के लाभ

  • नटराज आसन का अभ्यास करने से आपको वजन कम करने में मदद मिलती है।
  • यह आपके शरीर की मुद्रा में सुधार करता है और शरीर के संतुलन को बढ़ाता है।
  • नटराजासन करने से थाई, हिप्स, टखनों और सीने की मसल्स को स्ट्रेच करने में मदद मिलती है।
  • यह आपकी एकाग्रता बढ़ाने के लिए भी लाभकारी योगासन है।
  • तनाव को कम करने और दिमाग को शांत करने के लिए आपको नटराज आसन का अभ्यास करना चाहिए।
  • इस योगासन के अभ्यास से एब्डोमिनल ऑर्गन के फंक्शन को सुधारने में मदद मिलती है जिससे आपका पाचन बेहतर होता है।
  • यह हैमस्ट्रिंग, स्पाइन, कंधों के लचीलेपन को बढ़ाता है।

[जरुर पढ़ें: अधो मुखा स्वानासन करने के लाभ और विधि]

यह नटराजासन करने की विधि और इसके कुछ फायदे हैं। स्वस्थ रहने के लिए आप हर रोज इसका अभ्यास करें। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "