मकरासन करने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ

how to do makraasan and its health benefits

मकरासन जिसे क्रोकोडाइल पोज अर्थात मगरमच्छ आसन भी कहते हैं शरीर को रिलैक्स करने वाला योगासन है। यह योगासन कमर और कंधे के लिए बहुत ही बेहतर योगासन है। इस योगासन के दौरान शरीर पानी में आराम करते मगरमच्छ जैसा दिखता है इसलिए इस आसन का नाम मकरासन है। इस योगासन का मुख्य काम दूसरे योगासनों करने से होने वाले खिंचाव को दूर करना होता है। यह योगासन योग के अंत में किया जाने वाला योगासन है। आईये जानते हैं की सी योगासन के क्या फायदे होते हैं तथा इसके करने का क्या तरीका होता है। [इसे भी पढ़ें: योग की मदद से बनाए शानदार फ्लैट एब्स]

मकरासन करने से पहले मकरासन के बारे में जानें ये बातें:
मकरासन योग सबसे अंत में किया जाने वाला आसन है। यह योगासन शरीर को शांत और ठंडा करने के लिए किया जाता है। मकरासन योगासन हमेशा सुबह-सुबह खाली पेट करना चाहिए। अगर किसी कारणवश आप ये व्यायाम सुबह में नहीं कर पाते हैं तो आप इस व्यायाम को शाम को करें। बस ये ध्यान रहे की इस व्यायाम को करने से पहले कम से कम 4-5 घंटे पहले भोजन किया हो।

मकरासन करने का तरीका:
1. पेट के बल जमीन पर लेट जाएं।
2. अपने हाथों को अपने सिर के पास कोहनी के बल टिकाएं और हाथ जोड़ लें।
3. अपने कंधे और सिर को उठायें। अपनी गर्दन को सीधा ही रखें और सामने देखें।
4. अपने सिर को आगे की तरफ थोड़ा मोड़ें और अपने ठुड्डी को अपने हथेलियों पर टिकाएं।
5. पैरों को स्ट्रेच करें और जमीन को अपने पैरों की अंगुलियों से स्पर्श कराएं।
6. धीरे-धीरे सांसें लें और अपने मांसपेशियों को रिलैक्स करें।
7. इस आसन में तब तक रहें जब तक आप पूरी तरह से रिलैक्स न हो जाएं।
8. इस अवस्था से हटने के लिए धीरे-धीरे अपनी हथेलियों को अपने ठुड्डी से हटायें और अपने कंधे और सर को नीचे लायें और उठ जाएं।  [इसे भी पढ़ें- जानें क्या है अनुलोम विलोम प्राणायाम और इसके स्वास्थ्य लाभ]

मकरासन के फायदे:
*मकरासन से कंधे और रीढ़ को आराम मिलता है।
*इस आसन से घुटने का दर्द, फेफड़े की समस्या तथा अस्थमा की समस्या दूर होती है।
*यह आसन स्लिप डिस्क, स्पोनडीलाइटिस की समस्या को भी दूर करता है।
*यह शारीरिक और मानसिक तनाव को दूर करता है।
*मकरासन हाइपरटेंशन, हृदय रोग और मानसिक समस्याओं को दूर करता है।
*यह आसन पेट की मांसपेशियों, हृदय रोगों तथा मानसिक विकारों को दूर रखता है।
* मकरासन करने से सांसों पर नियंत्रण बनता है।
*यह आसन करने से व्यक्ति के अन्दर सक्रियता बढ़ती है तथा दिमाग हमेशा सचेत रहता है।
*मकरासन करने से शरीर में मौजूद गांठें खुल जाती है जिससे शरीर और भी ज्यादा लचीला हो जाता है।

मकरासन करते समय बरतें ये सावधानियां:
*मकरासन करते समय यह ध्यान रखें की आपका शरीर सहज है।
*अगर पीठ में गहरी चोट लगी हो तो इस आसन को ना करें।
*जिन लोगों के गर्दन में चोट लगी हो वो लोग भी इस योगासन को ना करें।  [इसे भी पढ़ें- कपालभाति प्राणायाम करने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "