डायबिटीज की समस्या से हैं परेशान तो आजमाएं ये योगासन

best yoga postures to get relief in diabetes

डायबिटीज एक ऐसी समस्या है जिससे बहुत से लोग ग्रसित होते हैं। इसे संतुलित करने के लिए योगासन काफी प्रभावी होते हैं। 2011 में हुए एक शोध में यह पाया गया की योग बॉडी मास इंडेक्स को संतुलित रखता है तथा शरीर में शुगर के स्तर पर भी नियंत्रण रखता है। आप कई तरह के योगासन अपनी दिनचर्या में अपनाकर डायबिटीज को कम कर सकते हैं साथ ही नियंत्रण में रख सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि ऐसे कौन से योगासन है जिनका प्रतिदिन अभ्यास करके इसे संतुलित किया जा सकता [ये भी पढ़ें: ये योगासन अपनाकर ऑस्टिओअर्थराइटिस के लक्षणों से पाएं छुटकारा]

1. वज्रासन:

वज्रासन को थंडरबोल्ट पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। यह आसन कूल्हे, पैर के निचले हिस्से पर केंद्रित होता है। यह मुद्रा आपके पाचन तंत्र को सुधारने में मदद करती है। इस आसन की मदद से वजन को निंयत्रण में रखने,तनाव को कम करने में, पीठ दर्द की समस्या को दूर करने में और घुटनों की परेशानी को कम किया जा सकता है। यह आसन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली(इम्यून सिस्टम), पैनक्रियाज और अन्य अंगों के कार्य करने की क्षमता को बढ़ाता है। वज्रासन करने से कुछ दिनों में आपका ब्लड शुगर नियंत्रित हो जाता है।
इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर अपने घुटनों को मोड़कर एड़ियों के बल बैठ जाएं। फिर अपने कमर को सीधा कर लें और दोनों हाथ को कोहनियों से मोड़े बिना घुटनों पर रखें।

2. भुजंगासन:
best yoga postures to get relief in diabetes भुजंगासन को कोबरा पोज़ भी कहते हैं। इस आसन को नियमित रूप से करने से कंधे, हाथ, कोहनियां, पीठ, किडनी और लीवर को मज़बूती मिलती है और डायबिटीज जैसे रोगों से मुक्ति भी मिलती है। भुजंगासन पैनक्रियाज की कोशिकाओं को उत्तेजित करने में मदद करता है और साथ ही शरीर में ब्लड फ्लो को भी बढ़ाता है।
इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर पेट के बल लेट जाएं। फिर अपने दोनों पैरों को सीधा कर लें। पेट का सहारा लेते हुए दोनों हथेलियों की मदद से हल्के से ऊपर की तरफ उठें। अब अपने गले को पीछे की तरफ मोड़ें। इस आसन को करते समय अपनी सांसों पर नियंत्रण रखें। [ये भी पढ़ें: इन योगासन से वृद्धावस्था में भी फिट बने रहें]

3. नौकासन:
best yoga postures to get relief in diabetesनौकासन को बोट पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। यह आसन आपको पेट की परेशानी, पीठ की समस्या और घुटनों के दर्द से राहत पहुंचाता है। यह योगासन आपके पैनक्रियाज और प्लीहा को सक्रिय करता है और साथ ही आपके प्रतिरक्षा प्रणाली(इम्यून सिस्टम) को भी मजबूत करता है।
सबसे पहले जमीन पर पीठ के बल लेट जाये। अब दोनों एड़ियों, घुटने और अंगूठे को आपस में मिला लें। दोनों को अपने बगल में जमीन पर रख लें। अब सांसों को अंदर बाहर छोड़ें और दोनों पैरों को ऊपर उठाएं।

4. अर्ध मत्स्येन्द्रासन :

अर्ध मत्स्येन्द्रासन को हॉफ लार्ड ऑफ द फिश पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। यह आसन रीढ़ की हड्डी के दर्द, कब्ज़ और डायबिटीज से राहत पहुंचाता है। इस योगासन की मदद से पैनक्रियाज, किडनी, गॉल ब्लैडर, छोटी अंत और लीवर की मसाज होती है जिससे पाचन की प्रक्रिया सुचारू रूप से काम करने लगती है तथा शरीर से विषाक्त पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं । स्लिप डिस्क या कमर दर्द से ग्रसित लोग इसे ना करें।
इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर बैठ जाएं और अपनी टांगें सीधी रखें, अब पूरे शरीर को विश्राम दें। दाएं पैर के तलवे को जमीन पर रखें और बाएं घुटने को बाहर की ओर रखें। अब बायीं टांग को मोड़े और बायीं एड़ी को दायें नितम्ब के पास रखें।

5. धनुरासन:
best yoga postures to get relief in diabetes धनुरासन को बो पोज़ भी कहते हैं। इसे करने से अग्नाशय और आंतों के काम में सुधार होता है। यह आसन ब्लड शुगर(रक्त शर्करा) के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। शरीर के कई अंग जैसे लीवर, पैनक्रियाज और एंजाइम उत्पादन करने वाले अंग इस आसन के अभ्यास से सक्रिय रूप से कार्य करने लगते हैं। इससे आपका मोटापा, डायबिटीज़ और अस्थमा जैसी परेशानियों के दूर होने की संभावनाएं बढ़ जाती है। हर्निया और कमर दर्द से पीड़ित लोग इस योगासन को ना करें।
सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। सांस छोड़ते हुए अपने घुटनों को मोड़ें और दोनों हाथों से एड़ियों को पकड़ें। अब सांस लेते हुए अपने सिर, छाती और जांघ को ऊपर की ओर उठा लें। शरीर के भार को पेट के निचले हिस्से पर लेने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें: बाइपोलर डिसऑर्डर के मरीज़ों के लिए है असरकारक है योग]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "