सिर्फ15 मिनट योग अभ्यास से बेहतर करें अपनी रोग प्रतिरोध क्षमता और लचीलापन

15 minute yoga routine to improve your flexibility and immunity

लाइफस्टाइल में थोड़ा सा भी बदलाव होने की वजह से हमारे शरीर में कई समस्याएं होना शुरु हो जाती हैं। ऐसा इम्यूनिटी के कम होने और लचीलेपन में कमी होने कारण होता है। लचीलापन व्यक्ति के शरीर में जोड़ों से संबंधित होता है। यह जोड़ों की मांसपेशियों में लंबाई जोड़ता है साथ ही झुकाव के लिए प्रेरित करता है। इम्यूनिटी शरीर को बीमारियों से दूर रखने में मदद करती है। इम्यूनिटी शरीर की क्षमता होती है जो शरीर में हानिकारक बैक्टीरिया आने की रोकथाम करती है। व्यक्ति को स्वस्थ रहने के लिए इम्यूनिटी और लचीलापन सही होना जरुरी होता है। योगा की मदद से इम्यूनिटी और लचीलेपन में सुधार किया जा सकता है। आइए आपको कुछ योगासन के बारे में बताते हैं जिन्हे रोजाना 15 मिनट करने से इम्यूनिटी और लचीलेपन में सुधार किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: बालों की वृद्धि के लिए ये योगासन हैं मददगार]

1-ताड़ासन:

यह बहुत ही साधारण आसन हैं। यह योगासन शरीर की सारी मांसपेशियों पर काम करता है इसे सही तरीके से किया जाए तो आपका शरीर लचीला बनता है साथ ही आपके शरीर से दर्द भी दूर हो जाता है। यह आसन आपकी तंत्रिका तंत्र, पाचन तंत्र और श्वास नली पर काम करता है जिससे वह नियमित रहे। इससे आपका इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है।

2-उत्कटासन:

इस योगासन को चेयर पोज भी कहते हैं। यह योगासन शक्तिशाली होता है क्योंकि इसमें शरीर के सारे अंग इस्तेमाल होते हैं। काल्पनिक कुर्सी बनाने के लिए शरीर को स्टेमिना और स्ट्रेंथ की जरुरत होती है। इसे रोजाना करने से आप शक्तिशाली बनते हैं और शरीर में लचीलापन के साथ इम्यूनिटी में सुधार होता है। [ये भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए करें ये योगासन]

3-वृक्षासन:

वृक्षासन रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने में मदद करता है जिससे संतुलन में सुधार होता है। इस योगासन का रोजाना अभ्यास करने से संतुलन के साथ लचीलेपन और इम्यूनिटी में सुधार होता है।

4-वशिष्ठासन:

इस योगासन को करने से कमर, पैर और कलाई स्ट्रेच होते हैं। इसे करने से अंदरुनी ताकत मिलती है। इसे करने से मांसपेशी और अन्य अंग उत्तेजित होते हैं और शरीर का काम करने में सुधार होता है।

5-सेतुबंधासन:

सेतुबंधासन सीने, कंधे, रीढ़ की हड्डी और गर्दन के पीछे की हड्डी की लचीला बनाता है। इस योगासन को करने से तनाव, थकावट दूर होती है। साथ ही ब्लडप्रेशर नियमित होता है।

6-मत्स्यासन:

मत्स्यासन कमर और पेट को मजबूती प्रदान करता है। यह आसन रीढ़ की हड्डी का लचीलापन बढ़ाने में मदद करता है। इसके साथ ही इम्यूनिटी में भी सुधार करता है। इस योगासन को रोजाना करने से शरीर कई समस्याओं से दूर रहता है। [ये भी पढ़ें: अपनी जांघों और कूल्हों को शेप में लाने के लिए करें ये योगासन]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "