Weight loss: लगभग 4.5 किलो वजन कम करने से आपके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है

Weight loss: वजन कम करने पर आपके शरीर में कई बदलाव आते हैं।

अगर आपका वजन ज्यादा था और उसे आपने कम कर लिया है तो इसका आपके स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है। डाइट प्लान को फॉलो करते हुए जब आप लगभग 4.5 किलो वजन कम कर लेते हैं तो इससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर अपने आप कम हो जाता है। जिसकी वजह से आपको शरीर स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। वजन कम करना इतना आसान नहीं होता है जितना लोग समझते हैं। मगर जब आप अतिरिक्ति वजन को कम कर लेते हैं तो इससे ना सिर्फ अपने लुक को बेहतर बना पाते हैं बल्कि आपका शरीर भी स्वस्थ होता जाता है। तो आइए आपको उन प्रभावों के बारे में बताते हैं जो लगभग 4.5 किलो वजन कम करने पर शरीर पर पड़ते हैं। [ये भी पढ़ें: Weight Loss: मॉर्निंग एक्सरसाइज कैसे वजन कम करने में मदद करता है]

Weight loss: 4.5 किलो वजन कम करने से शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव

बेहतर नींद
मानसिक रुप से स्वस्थ
हृदय को स्वस्थ बनाता है
डायबिटीज का खतरा कम करता है
अर्थराइटिस से रोकथाम

बेहतर नींद: जब आप लगभग 4.5 किलो वजन कम कर लेते हैं तो इससे आपको बेहतन नींद आने लगती है। इससे आपके शरीर में कोर्टिसोल हार्मोन का लेवल कम हो जाता है जिसकी वजह से आपको तनाव भी कम होता है और मीठा खाने की क्रेविंग भी कम होती है। जिससे नींद बेहतर होती है।

मानसिक रुप से स्वस्थ: वजन कम करने की खुशी सभी को होती है। इसे आप मोटिवेटिड होते हैं साथ ही आपका आत्म-विश्वास भी बढ़ता है। इन सभी चीजों का आपके मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर पड़ता है और आप मानसिक रुप से स्वस्थ होते हैं।

हृदय को स्वस्थ बनाता है: अतिरिक्त वजन के कम होने से आपके हृदय से तनाव भी कम हो जाता है। जब आप अतिरिक्त वजन कम कर लेते हैं तो हाई ब्लड प्रेशर को मैनेज करना या उससे रोकथाम में मदद मिलती है जो हृदय को स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। क्योंकि ब्लड प्रेशर बढ़ने से हृदय संबंधित समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती है।

डायबिटीज का खतरा कम करता है: ज्यादा वजन होने की वजह से डायबिटीज होने की संभावना भी ज्यादा होती है। साथ ही ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ा रहता है। मगर जब आप 4.5 किलो वजन कम कर लेते हैं तो यह ब्लड शुगर लेवल को कम करने के साथ इंसुलिन लेवल को नियमित करने में मदद करता है।

अर्थराइटिस से रोकथाम: जब आपका शरीर 4.5 किलो वजन कम करता है तो इससे घुटने और कूल्हों पर प्रभाव कम पड़ता है। क्योंकि आपका शरीर में जमा अतिरिक्त फैट प्रो-इंफ्लेमेटरी केमिकल रिलीज करता है। जब वजन कम होता है तो जोड़ों में दर्द की समस्या भी कम होने लगती है।

[जरुर पढ़ें: Weight loss: वजन कम करने के लिए ठंडा नींबू पानी कैसे मदद करता है]

वजन कम करना आसान नहीं होता है मगर जब आप -4 किलो वजन कम करते हैं तो इससे आपके शरीर पर कई प्रभाव देखने को मिलते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "