वजन कम करने के लिए अपनाएं इंटरमिटेंट फास्टिंग तकनीक

intermittent fasting for weight loss

हर कोई चाहता है कि वो स्लिम रहें ताकि सेहत भी बनी रहे और वे फिट नजर आयें। इस समस्या के लिए सही विकल्प है इंटरमिटेंट फास्टिंग। इंटरमिटेंट फास्टिंग आज के समय में वजन घटाने के सबसे ज्यादा प्रचलित उपायों में से एक है। जिसके जरिए कम समय में ज्यादा वजन कम किया जा सकता है। अब आपको सुबह शाम जिम में पसीना बहाने की जरुरत नहीं है, क्योंकि बिना जिम के भी आप अपना वजन घटा सकते हैं। इस फास्टिंग की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके लिए आपको थोड़े समय खाना होता है और थोड़े समय के लिए फ़ास्ट करना होता है। यानि आपको पूरा समय भूखा नहीं रहना होगा। जिससे आपके शरीर में संतुलन बना रहता है और फैट कम जमा होता है। आइए जानते हैं इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण बातों के बारें में।  [ये भी पढ़ें: अतिरिक्त फैट हटाना चाहते हैं तो करें इन पदार्थों का सेवन]

क्या है इंटरमिटेंट फास्टिंग: इंटरमिटेंट फास्टिंग, जैसा कि इसका नाम बता रहा है, फास्ट करने की एक तकनीक है जिसमें आप एक निश्चित अवधि के लिये फास्ट रखते हैं। आप दिन के केवल कुछ घंटों में ही खाना खाते हैं और बाकी समय में आपको फ़ास्ट करना होता है। जब आप ये तरीका अपना रहे हैं तो इसके लिये आपको दिन में लगातार 16-20 घंटे फास्ट रखना होता है, और केवल 4 से 8 घंटों में खाना खा सकते हैं। फ़ास्ट के दौरान आप कम कैलोरी या बिना कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ ले सकते हैं, जैसे चाय, कॉफ़ी और कम कैलोरी वाली सब्जियां।

कब करें इंटरमिटेंट फास्टिंग: इसे कब करना है यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। आप अपनी दिनचर्या के अनुसार ही इंटरमिटेंट फास्टिंग को चुनें। इसे शुरु करना बहुत ही साधारण है। इसके साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि दिन में फास्टिंग वाला समय जितना अधिक होगा, उतना अच्छा होगा और आप उतना ही वजन कम कर पाएंगे। इसको करने के लिए सबसे ज्यादा अच्छा समय रात के 8 बजे से लेकर दोपहर तक होता है। इस दौरान इसका अच्छा परिणाम मिलता है। बाकी समय में आप खाना खा सकतें हैं। [ये भी पढ़ें: वजन कम करने के लिए फायदेमंद है हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग]

इंटरमिटेंट फास्टिंग को आसान बनाने के लिए आप ये तीन उपाय आजमां सकते हैं-

  • थोड़े-थोड़े समय पर पानी पीते रहें और नींबू पानी भी बेहतर होगा।
  • आप सुबह-सुबह चाय और कॉफी भी पी सकतें हैं जिसमे कैफीन होता है और जो वजन कम करने में आपकी मदद करता है।
  • बाहर के ड्रिंक्स से परहेज करें। बाहरी ड्रिंक्स जिसमें लो कैलोरी या डाइट सोडा लिखा होता है असल में उसके पीने से भी वजन बढ़ने की संभावना होती है।

कैसे काम करता है इंटरमिटेंट फास्टिंग: जब भी आप फास्ट रखते हैं तब किसी भी काम के लिये आपके शरीर को अधिक उर्जा की जरुरत होती है जिससे शरीर में मौजूद वसा और कैलोरी उर्जा की जरूरत को पूरा करने में खर्च हो जाती है और अतिरिक्त फैट नहीं बनता। जब यही फ़ास्ट आप बार-बार करतें हैं तब यह बहुत अधिक मात्रा में मौजूद वसा और कैलोरी को आपके शरीर के उपयोग के अनुसार खपाने लगता है। जिससे कि वह धीरे-धीरे कम होने लगता है। इसलिए इंटरमिटेंट फास्टिंग को मोटापा कम करने के लिए बेहतर तरीका माना गया है।

इंटरमिटेंट फास्टिंग से कितना वजन कम किया जा सकता है:
intermittent fasting for weight lossअन्य तरीकों के मुकाबले इंटरमिटेंट फास्टिंग ज्यादा प्रबल है, जिसके प्रयोग से कम समय में ज्यादा वजन को घटाया जा सकता है। इसके लिए जरुरी है कि आप लगातार एक सप्ताह तक इंटरमिटेंट फास्टिंग करें इससे आपके शरीर से 1 से 2 किलो वजन प्रति सप्ताह घट सकता है।

क्या इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान वर्कआउट किया जा सकता है:
intermittent fasting for weight loss
इंटरमिटेंट फास्टिंग के साथ वर्कआउट करना सोने पर सुहागा होगा। यह आपको जल्द से जल्द, ज्यादा वजन कम करने के में मदद करेगा। इसके साथ-साथ आप मानसिक और शारीरिक रूप से और भी ज्यादा स्वस्थ महसूस करेगें। ऐसा इसलिए क्योंकि वर्कआउट न केवल आपको शारीरिक रूप से फिट रखता है बल्कि आपको मानसिक रूप से भी फिट करता है। [ये भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए इन आसान और सरल तरीकों का करें इस्तेमाल]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "