वजन कम करने के लिए फायदेमंद है हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग

benefits of high intensity interval training to lose weight

हर इंसान वजन कम करने के आसान और जल्दी परिणाम देने वाले तरीके ढूंढता है, क्योंकि हम प्रतिदिन जिम नहीं जाना चाहते और ना ही हर रोज अपना पसंदीदा खाना छोड़ना पसंद करते हैं। हालांकि वजन कम करने के लिए ऐसी कोई अचूक दवा नहीं है, जिससे आप रातो-रात वजन कम कर सकते हैं। लेकिन एक प्रभावी तरीका जरुर है, जिसके जरिए आपके शरीर का फैट वर्कआउट के 48 घंटे बाद भी घटता रहता है। इसे हाई-इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग(एचआईआईटी) कहते हैं। आइए आपको एचआईआईटी के बारे में बताते हैं, आखिर ये उपाय क्या है और कैसे काम करता है। [ये भी पढ़ें: वजन कम करने के लिए अपनाएं इंटरमिटेंट फास्टिंग तकनीक]

हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग क्या है:
benefits of high intensity interval training to lose weight
हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग (एचआईआईटी) वजन को कम करने के लिए एक बहुत ही प्रभावशाली तरीका है। यह एक प्रकार की कार्डियो एक्सरसाइज है, जो आप दिन में 30 मिनट के लिये कर सकते हैं। यह वजन कम करने के लिए पांच गुना ज्यादा लाभदायक तरीका है। आप हाई-इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग को सप्ताह में 3-4 बार वर्कआउट के बाद एक साधारण ट्रेनिंग के रूप में कर सकतें है। यह बहुत जरुरी है कि इसे 100 प्रतिशत प्रयास के साथ ही करें। अधिकतर स्प्रिंट को 30 सेकेंड से ज्यादा नहीं करना चाहिए।

हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग(एचआईआईटी) को कैसे किया जाता है:
benefits of high intensity interval training to lose weight
हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग की सबसे अच्छी बात है कि यह आपके बॉडी के अनुसार ही अपना काम करता है। आपकी बॉडी जिस प्रकार की होती है, उसी प्रकार से यह आपके शरीर पर प्रभाव डालेगी। अगर आप एचआईआईटी करने के बारे में सोच रहें हैं तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरुर लें। वह आपको आपकी बॉडी के अनुसार वर्कआउट करने की सलाह देंगे। इसके लिए यह जरुर जान लें कि एचआईआईटी के अंतर्गत कौन-कौन से वर्कआउट आते हैं। इसके अंतर्गत निम्न वर्कआउट शमिल होते हैं।  [ये भी पढ़ें: डेस्क जॉब से बढ़ते वजन को इन तरीकों से कम करें]

  1.  रनिंग
  2.  स्विमिंग
  3.  जंपिंग रोप
  4.  पुश-अप्स
  5.  जंपिंग जैक्स

हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग वजन कैसे कम करता है:

1.फैट को जल्दी और लम्बे समय के लिए कम कर देता है: हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग फैट को बहुत ही जल्दी से कम करता है। इसको अपनाने से एक दिन में 100 कैलोरी कम किया जा सकता है जो कि आप जिम और एक्सरसाइज के जरिए नही कर पाते हैं। इसलिए हर दिन एचआईआईटी में से किसी एक को जरुर करें। इससे आपको बहुत ही बेहतर परिणाम मिलने लगेगें।

2.समय को बचाता है:
benefits of high intensity interval training to lose weight
हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग की सबसे खास बात यह है कि यह आपके समय को बचाता है। इसके लिए आपको जिम में घंटों समय नहीं बिताना पड़ता है। बाकी के वर्कआउट को आपको हर दिन 30 से 60 मिनट और सप्ताह में 4 से 5 बार करना होता है मगर एचआईआईटी को दिन में आपको मुश्किल से 15 से 25 मिनट करना होता हैं और इसे आप सप्ताह में 3 बार कर सकते हैं। यह कम समय में भी अच्छा परिणाम देता है।

3.किसी खास जगह की जरूरत नहीं: हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग(एचआईआईटी) को करने के लिए आपको किसी खास जगह की जरूरत नहीं होती है। बस स्विमिंग को छोड़कर यह किसी भी जगह किया जा सकता है।

4.एन्डोरेंस: हाई- इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग वजन को तो कम करता हीं पर साथ में यह हमारे भीतर एन्डोरेंस पॉवर को भी बढ़ाता है, जो हमारे लिए बहुत ही जरुरी है। यह आपको लॉन्ग रनिंग में बहुत सहायता करती है जिससे आपको जल्दी थकान नहीं होती है।

5.जल्द रिजल्ट: ऐसा देखा गया है कि कार्डियो या अन्य वर्कआउट की तुलना में एचआईआईटी वजन जल्दी कम करता है। इससे आपके शरीर के हार्मोन्स में बदलाव आता है जिससे आपका मेटाबोलिज्म बढ़ता है और वजन घटता है। मेटाबोलिज्म अधिक होने पर आपकी बॉडी से कैलोरी कम होने लगती है और जिसके कारण फैट भी कम होता है।  [ये भी पढ़ें: अतिरिक्त फैट हटाना चाहते हैं तो करें इन पदार्थों का सेवन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "