कौन सा वर्कआउट सिक्स पैक एब्स प्राप्त करने में मदद करता है

Read in English
Workout which helps to get ultimate six-pack abs

आजकल सिक्स पैक एब्स मस्कुलर बॉडी प्राप्त करने में मदद करता है। एब्डॉमिनल एरिया में फैट अधिक मात्रा जमा हो जाने की वजह से सिक्स पैक एब्स बनाना मुश्कि हो जाता है। सिक्स पैक एब्स प्राप्त करने के लिए आपको समर्पण, फोकस, उचित आहार और एक्सरसाइज के उचित निष्पादन की आवश्यकता होती है। आहार के अलावा, एक्सरसाइज का उचित निष्पादन सिक्स पैक एब्स प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जितना अधिक आप अपने एब्डॉमिनल पर दबाव डालते हैं उतना अधिक एब्स मजबूत होता है। यहां व्यायाम मार्गदर्शिका है जो आपको अंतिम पेट प्राप्त करने में मदद करती है। कुछ एक्सरसाइज की मदद से आप सिक्स पैक एब्स बना सकते हैं। इस एक्सरसाइज में एक सुपरसेट और एक ट्राई- सेट शामिल होता है जिससे आप आसानी से सिक्स पैक एब्स बना सकते हैं। आइए जानते हैं कौन सा वर्कआउट सिक्स पैक एब्स प्राप्त करने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: परिस्थितियां जिनमें वर्कआउट छोड़ना उचित होता है]

सुपरसेट:
जब आपका पैर अपवॉर्ड्स, डाउनवॉर्डस, लिफ्ट और राइट की तरफ मूव करता है तो यह सुपरसेट कोर बनाने में मदद करता है, खासकर लोअर एब्स।

– 1A हैंगिंग नी रेज:

इसका अभ्यास करने के लिए, पैरों को सीधा करते हुए रिंग्स और पुल अप बार को दोनों हाथों से पकड़ें। इसके बाद अपने एब्स को शामिल करें, अपने घुटनों को चेस्ट की तरफ खिंचें। 1 तक गिनती करते हुए इस अवस्था में ही रहें और अपने पैरों की नीचे करें। यह एक रिपीटिशन को पूरा करता है। बेहतर परिणाम के लिए, 4 सेट्स को 15 बार रिपीट करें और सेट्स के बीच में 30 सेकंड का रेस्ट लें। [ये भी पढ़ें: प्रोटीन का सेवन कब करना फायदेमंद होता है]

– 1B हैंगिंग नी ट्विस्ट:

यह एक्सरसाइज एब्स और कोर को पूरी तरह से टारगेट करता है। इसका अभ्यास बिल्कुल 1A की तरह किया जाता है। अंतर बस यह है कि जब आप अपने पैरों को चेस्ट की तरफ खिंचते हैं तो दाई और बाई तरफ शरीर को घुमाएं। फिर दूसरी तरफ से भी ऐसा ही करें। बेहतर परिणाम के लिए 4 सेट्स को 15 बार रीपिट करें और सेट्स के बीच में 60 सेकंड का रेस्ट लें।

ट्राई-सेट:
ट्राई-सेट के अंदर होने वाली एक्सरसाइज में पूरा कोर शामिल होता है। यह एक्सरसाइज टेंशन कम करता है और शरीर को संतुलित रखता है।

– 2A अर्टनेटिंग लेग रेज:

यह एक्सरसाइज लोअर एब्स को टारगेट करता है। इस एक्सरसाइज का अभ्यास करने के लिए, पीठ के बल लेट जाएं और अपने हाथों को पीछे की तरफ रखें। इसके बाद अपने एक पैर को उठाएं और दूसरे पैर को नीचे रखें। इसी को दूसरे पैर से भी करें। बेहतर परिणाम के लिए, 4 सेट्स को 25 बार रीपिट करें और सेट्स के बीच में 30 सेकंड का रेस्ट लें।

– 2B प्लांक जैक:

यह एक्सरसाइज भी पूरे कोर को टारगेट करता है। इस एक्सरसाइज का अभ्यास करने के लिए, प्लांक की अवस्था में आ जाए और अपने फोरआर्म्स को जमीन पर रखें और फिट को सीधा रखें। इसके बाद अपने एक फिट से कुदे और फिर पीछे आ जाएं। यह एक रिपीटिशन होता है। 4 सेट्स को 25 बार रीपिट करें और फिर 30 सेकंड को रेस्ट लें।

– 2C सुपरमैन प्लांक:

यह एक्सरसाइज भी पूरे कोर को टारगेट करता है। इस एक्सरसाइज का अभ्यास करने के लिए, प्लांक की अवस्था में आ जाए और अपने फोरआर्म्स को जमीन पर रखें और पैरों को सीधा रखें। इसके बाद, दाएं पैर को लिफ्ट करें और बाएं हाथ को आगे की तरफ लाएं और फिर वापस लाएं ताकि फिर से इसका अभ्यास कर सकें। दूसरे हाथ और पैर से इसे दोहराएं ताकि एक रीपिटीशन पूरा हो सके। बेहतर परिणाम के लिए, 4 सेट्स को 12 बार रीपिट करें और सेट्स के बीच में 60 सेकंड का रेस्ट लें। [ये भी पढ़ें: सुबह टहलने जाने से पहले किन खाद्य पदार्थों का सेवन करें]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "