टॉयलेट में फोन का इस्तेमाल करना पड़ सकता है महंगा, जानें क्यों

Read in English
Why you should never take your phone into the toilet

हमें स्मार्टफोन की इतनी लत लग चुकी है कि टॉयलेट इस्तेमाल करने के दौरान भी हम अपना स्मार्टफोन साथ ले जाना नहीं भूलते। लेकिन क्या आप जानते हैं, ये आदत आपके स्वास्थ्य के लिए कितनी खतरनाक हो सकती है और इसकी वजह से कितनी बीमारियां आपके शरीर में घर कर सकती है? असल में कई बार साफ करने के बावजूद भी हमारे टॉयलेट से कीटाणु पूरी तरह हट नहीं पाते। टॉयलेट के हर कोने पर बैक्टीरिया और वायरस जमे रह जाते हैं और फिर यही कीटाणु हमारे फोन पर आ जाते हैं। जिसकी वजह से हमें बहुत तरह की बीमारियां हो सकती हैं।[ये भी पढ़ें: जानिए तांबे के बर्तन में पानी पीने से होते हैं क्या फायदे]

कैसे करता है बीमार:
Why you should never take your phone into the toiletटॉयलेट की शीट, फ्लश, दीवारें आदि लाखों कीटाणुओं से घिरे रहते हैं। दरअसल, टॉयलेट फ्लश करते हुए पानी के साथ वेस्ट मटेरियल के छोटे-छोटे कण भी चारो दिशा में 6 फुट तक ऊपर उठते हैं और टॉयलेट के हर हिस्से में फैल जाते हैं। इसी वजह से हमारे साफ दिखते टॉयलेट में भी काफी कीटाणु होते हैं। मोबाइल फोन इस्तेमाल करते हुए यही कीटाणु हमारे हाथों के जरिए स्मार्टफोन की स्क्रीन और कवर पर चले जाते हैं। अब यही स्मार्टफोन हम बाद में या खाना खाते हुए भी इस्तेमाल करते हैं, जिससे फोन पर चिपके कीटाणुओं को हमारे शरीर पर या मुंह के अन्दर जाने का रास्ता मिल जाता है। ये कीटाणु इतने खतरनाक होते हैं कि इनसे हमें कई खतरनाक चर्मरोग और शारीरिक बीमारियां हो सकती हैं।

कीटाणु और बीमारियां:
Why you should never take your phone into the toiletटॉयलेट के अन्दर ई-कोलाई, शिगेला, हेपेटाइटिस ए, एमआरएसए, नोरोवायरस और गेस्ट्रोइन्टेस्टिनल वायरस जैसे कीटाणु होते हैं। जो हमें डायरिया, उल्टी, पेट में ऐंठन, पेट दर्द जैसी बीमारियों का शिकार बना सकते हैं। साथ ही साल्मोनेला, स्ट्रेप्टोकोकस की वजह से हमें कई प्रकार के चर्मरोग भी हो सकते हैं। [ये भी पढ़ें: खाली पेट ना करें इन खाद्य पदार्थों का सेवन]

एक्सपर्ट की राय:
Why you should never take your phone into the toiletएसबीएस को दिए एक साक्षात्कार में ऑस्ट्रेलिया में कार्यरत डॉ अन्चिता करमाकर ने बताया कि चूंकि स्मार्टफोन के अधिकतर कवर रबर के बने होते हैं, जो खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस को अनुकूल वातावरण प्रदान करते हैं। साथ ही फ्लश या शौच करते हुए बैक्टीरिया वायु कणों के द्वारा हमारे फोन पर चिपक जाते हैं। वहीं लंदन की क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी में स्थित बायोमेडिकल साइंस डिग्री के डायरेक्टर डॉ रोन कटलर का कहना है कि टॉयलेट से होने वाली बीमारियों की आशंका सार्वजनिक या किसी कार्यालय के टॉयलेट में ज्यादा होती है।

कैसे बचें: इन बीमारियों से बचने के लिए आपको टॉयलेट के अंदर अपना फोन लेकर जाना या इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यदि किसी जरुरी काम की वजह से आपको इस्तेमाल भी करना पड़ जाता है तो टॉयलेट से बाहर आकर अपने फोन और हाथ को किसी अच्छे सैनिटाइज़र की मदद से साफ कर लेना चाहिए। [ये भी पढ़ें: आपकी आंखें भी आपके बिगड़ते स्वास्थ्य की ओर इशारा करती हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "