Workout: वर्कआउट पार्टनर के नियम क्या हैं

Read in English
rules of workout partner

Workout: वर्कआउट पार्टनर का होना महत्वपूर्ण होता है

Workout: डंबल, केटलबेल और बार एक्सरसाइज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन वर्कआउट पार्टनर भी समान रूप से महत्वपूर्ण होते हैं। बेंच प्रेस करते वक्त वर्कआउट पार्टनर आपके पीछे खड़ा रहता है ताकि आपको किसी प्रकार की कोई चोट ना लगे। इसके अलावा, एक अच्छा वर्कआउट पार्टनर आपको प्रेरित करता है ताकि आप एक्सरसाइज का अभ्यास अच्छी तरह कर सकें। कभी-कभी लोगों का एक्सरसाइज करने का मन नहीं होता है, इस वजह से वो नियमित रूप से एक्सरसाइज नहीं कर पाते हैं। ऐसे में आपका वर्कआउट पार्टनर आपको एक्सरसाइज में रूची लेने में मदद करता है। इसके अलावा, यदि आप अपने पार्टनर के साथ एक्सरसाइज का अभ्यास करते हैं तो चोट लगने का कम जोखिम होता है और आप अधिक प्रतिनिधि का अभ्यास कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट के लिए पार्टनर की जरुरत क्यों होती है]

Workout: अच्छे वर्कआउट पार्टनर के क्या संकेत होते हैं:

  • समय पर आना
  • कब सपोर्ट करना है, कब नहीं
  • पार्टनर को सिखाना
  • लेकिन अधिक ना सिखाएं
  • एक्सरसाइज के बारे में अच्छे से जानना

समय पर आना:

Signs of good workout partner
Workout: आपका वर्कआउट पार्टनर समय का पक्का रहे

हमेशा अपने स्वभाव के अनुसार अपना वर्कआउट पार्टनर चुनें। उदाहरण के लिए, यदि आपको लगता है कि 7 बजे का मतलब 7:00 बजे ही है और आपका पार्टनर समय का पक्का नहीं है तो यह आपके लिए एक परेशानी का कारण बन सकता है। [ये भी पढ़ें:]

कब सपोर्ट करना है, कब नहीं:
एक्सरसाइज का अभ्यास करते यह जानना महत्वपूर्ण है कि अपने पार्टनर को कब सपोर्ट करना है, कब नहीं। यदि आप अभ्यास के दौरान देखते हैं कि आपका साथी एक्सरसाइज का अभ्यास नहीं कर रहा है और खुद को चोट पहुंचाने का जोखिम उठा रहा है, तो वजन कम करने के लिए उसे सलाह देना आपकी ज़िम्मेदारी है। [ये भी पढ़ें:]

पार्टनर को सिखाना:
एक्सरसाइज पार्टनर के बारे में महान चीजों में से एक यह है कि वे आपकी ताकत जानते हैं। आपका पार्टनर आपको एक्सरसाइज से जुड़ी हर बातों के बारे में अच्छी तरह बताता है। इसके अलावा, स्क्वाट और प्रेस जैसे अभ्यास को करना थोड़ा मुश्किल होता है, ऐसे में आपका पार्टनर आपकी मदद करता है। [ये भी पढ़ें:]

लेकिन अधिक ना सिखाएं:
कभी-कभी एक्सरसाइज पार्टनक अति-विश्लेषणात्मक होते हैं और हर एक्सरसाइज को अधिक करने की सलाह देते हैं। लिफ्ट करने के दौरान आप जो देखते हैं उसके आधार पर हमेशा निर्देश दें। सेट के दौरान सबसे महत्वपूर्ण एक या दो संकेत से अधिक ना दें क्योंकि आधे दर्जन चीजों को एक बार में सही करना असंभव है। [ये भी पढ़ें: Six-pack Abs:सिक्स पैक एब्स बनाने के लिए खाने से जुड़े टिप्स]

एक्सरसाइज के बारे में अच्छे से जानना:
हमेशा अनुसंधान करें जो आपके लक्ष्यों के लिए फायदेमंद है और आपको एक साथ एक्सरसाइज करने में मदद करता है। बेहतर परिणामों के लिए आपको एक्सरसाइज से जुड़ी हर बात के बारे में जानना चाहिए।

[जरूर पढ़ें: एक्सरसाइज जिनकी मदद से महिलाएं आर्म फैट कम कर सकती हैं]

फिटनेस लक्ष्यों को पूरा करने में वर्कआउट पार्टनर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा, वर्कआउट पार्टनर आपको प्रेरित करता है और आपको चोट से बचाता है।

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "