गलतियां जो ट्राइसेप्स की ग्रोथ को रोक देती हैं

Read in English
triceps workout mistakes that decrease triceps growth

मस्कुलर आर्म्स के लिए बाइसेप्स मसल्स के साथ ट्राइसेप्स मसल्स का भी मस्कुलर बनाना चाहिए, क्योंकि हाथों का अधिकतर हिस्सा ट्राइसेप्स मसल्स वाला होता है। मजबूत और मस्कुलर ट्राइसेप्स हाथों की शेप को आकर्षक बनाते हैं और आपकी अपर बॉडी दमदार दिखती है। लेकिन ट्राइसेप्स मसल्स की एक्सरसाइज करते हुए लोग कुछ गलतियां कर बैठते हैं, जिससे एक्सरसाइज का प्रभाव कम हो जाता है और आपको बेहतर नतीजे नहीं मिल पाते हैं। तो आइए आपको बताते हैं ट्राइसेप्स मसल्स की एक्सरसाइज करते हुए किन गलतियों को दोहराने से बचना चाहिए।[ये भी पढ़ें: वर्कआउट के लिए पार्टनर की जरुरत क्यों होती है]

ओवरहेड मूवमेंट नहीं करना: ओवरहेड एक्सरसाइज का अभ्यास करने से ट्राइसेप्स मसल्स का मास बढ़ता है और यह मसल्स पूरी तरह से सक्रिय हो जाती है। इसलिए अपने ट्राइसेप्स वर्कआउट में सीटेड या इन्कलाइन बारबेल या डंबल ओवरहेड को जरुर शामिल करें। जिसके बाद कुछ ही दिनों में आपको बेहतर नतीजे मिलने शुरू हो जाएंगे।

क्लोज ग्रिप बेंच प्रेस या डिप्स का अभ्यास नहीं करना: क्लोज ग्रिप बेंच प्रेस और डिप्स थोड़ी मुश्किल एक्सरसाइज होती हैं, इसलिए जिम जाने वाले लोग इन्हें अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन यह एक्सरसाइज आपकी पैक्स और डेल्ट्स मसल्स के साथ ट्राइसेप्स की शेप निर्धारित करने में काफी अहम भूमिका निभाते हैं। इन एक्सरसाइज का हर ट्राइसेप्स वर्कआउट में अभ्यास करें। [ये भी पढ़ें: माउंटेन क्लाइंबर वर्कआउट जो आपके सभी कोर मसल्स पर प्रभाव डालती हैं]

बाइसेप्स के जितनी ही एक्सरसाइज करना:
triceps workout mistakes that decrease triceps growth लोग बाइसेप्स की एक्सरसाइज के सेट्स जितने ही ट्राइसेप्स के सेट्स करते हैं। लेकिन ट्राइसेप्स को पूर्ण विकसित करने के लिए आपको बाइसेप्स से ज्यादा एक्सरसाइज करने की जरुरत होती है, क्योंकि ट्राइसेप्स थोड़ी ज्यादा कॉम्प्लेक्स मसल्स होती है जिसके लिए अधिक दबाव की जरुरत होती है।

कोहनियों को चौड़ा रखना: ट्राइसेप्स एक्सरसाइज के दौरान आपकी कोहनियों की स्थिति बहुत महत्वपूर्ण होती है। लेकिन लोग ट्राइसेप्स एक्सरसाइज करते हुए कोहनियों को चौड़ा रखते हैं, जिसके कारण ट्राइसेप्स मसल्स से तनाव कम हो जाता है और आपकी मेहनत बेकार चली जाती है। इसलिए कोहनियों को जितना हो सके पास और स्थिर रखें, जिससे ट्राइसेप्स को अधिक से अधिक तनाव मिल सके।

ट्राइसेप्स को लॉक नहीं करना: एक्सरसाइज के दौरान ट्राइसेप्स को पूरी तरह सक्रिय करने के लिए रैप की फुल मूवमेंट में ट्राइसेप्स को लॉक करना चाहिए। लेकिन अधिकतर लोग इन्हें लॉक किए बिना ही रैप्स करने लगते हैं, जिससे कोहनियों पर अधिक दबाव पड़ता है और उनके चोटिल होने की संभावना बढ़ जाती है। [ये भी पढ़ें: वाल सिट एक्सरसाइज करने का सही तरीका और उसके फायदे]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "