स्क्वाट करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

things you should remember while squatting

स्क्वाट एक कंपाउंड एक्सरसाइज है, जो आपकी क्वाड्स, ग्लूट और कोर मसल्स को मजबूत बनाती है। स्क्वाट पैरों की मजबूती के लिए काफी प्रभावशाली होती है, क्योंकि यह पैरों की ताकत और कार्यक्षमता को सुधारती है। स्क्वाट्स करते हुए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे इसके प्रभाव को बढ़ाया जा सकता है। इन बातों को नजरअंदाज करने से आपको नुकसान पहुंच सकता है, तो आइये जानते हैं कि स्क्वाट करते हुए आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट के दौरान लगने वाली आम चोटें और उनसे कैसे बचें]

पोश्चर:
things you should remember while squatting स्क्वाट का गलत तरीके से अभ्यास करने से इसका प्रभाव तो कम हो ही जाता है, बल्कि इससे शरीर में दर्द भी हो सकता है। गलत पोश्चर के साथ स्क्वाट करने से आपकी कमर के निचले हिस्से में दर्द या घुटनों पर अत्यधिक तनाव आ सकता है, जिस कारण आपको दैनिक गतिविधियों को करने में भी दिक्कत महसूस हो सकती है। इसलिए अपनी कमर को थोड़ा सा झुका लें, जिससे एक्सरसाइज का प्रभाव कमर की जगह पैरों पर पड़े।

पंजों की स्थिति: स्क्वाट करते समय आपके पंजों की स्थिति काफी महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इनकी स्थिति से आपकी लक्षित मसल्स निर्धारित होती है। पंजों को कंधों से बाहर की तरफ रखकर स्क्वाट करने पर जांघों के बाहरी हिस्से पर असर पड़ता है और पंजों को सीधा रखने से जांघों के अंदरूनी हिस्से को मजबूती मिलती है। [ये भी पढ़ें: गलतियां जो ट्राइसेप्स की ग्रोथ को रोक देती हैं]

जूते: स्क्वाट करने के लिए आपके पास एक जोड़ी आरामदायक जूते होने चाहिए। दरअसल जूते पहनने से पैरों को जमीन पर अच्छी पकड़ मिलती है और आप एक्सरसाइज को बेहतर तरीके से कर पाते हैं। आपके जूते ढीले नहीं होने चाहिए। जूते के ढीले होने से पैर मुड़ने की संभावना बढ़ जाती है।

नी कैप: स्क्वाट करते हुए आपके घुटनों पर काफी दबाव पड़ता है। जिसकी वजह से उनके क्षतिग्रस्त होने की संभावना अधिक होती है। घुटनों पर नी कैप पहने जिससे वह गर्म रहेंगे और घुटनों पर ज्यादा तनाव नहीं पड़ेगा। इससे आप बिना किसी डर के अपनी एक्सरसाइज नियमित रख सकते हैं।

कूल्हों की स्थिति: स्क्वाट करते हुए आपको अपने कूल्हों को नीचे लाते हुए ध्यान रखना चाहिए कि वह ज्यादा नीचे नहीं आएं। क्योंकि इससे आपके पैरों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। कूल्हों को उतना ही नीचे लाएं, जबतक कि आपकी जांघें जमीन के समानांतर नहीं आ जाती। इसके बाद वापस सीधे खड़े हो जाएं। [ये भी पढ़ें: वेटेड स्क्वाट आपकी कौन-कौन सी मसल्स को मजबूत बनाती है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "