बातें जो डेडलिफ्ट करते समय याद रखनी चाहिए

Read in English
things to remember while practicing deadlift exercise

डेडलिफ्ट काफी प्रभावशाली एक्सरसाइज है, जो आपकी कमर, ग्लूट, हैमस्ट्रिंग और हाथों पर असर डालती है। डेडलिफ्ट का अभ्यास करके शरीर की मजबूती और ताकत को बढ़ाया जा सकता है। साथ ही यह कमर के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से भी छुटकारा दिलाती है। लेकिन डेडलिफ्ट का पूरा फायदा उठाने के लिए इसे सही तरीके से करने के साथ कुछ बातों का भी ध्यान रखना चाहिए, जिससे इसका प्रभाव बढ़ जाता है। इस एक्सरसाइज को आप ज्यादा वेट के साथ करके भी इसे फायदेमंद बना सकते हैं। आइये जानते हैं कि डेडलिफ्ट को प्रभावशाली बनाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट जिससे बैक और बाइसेप्स मसल्स एक साथ मस्कुलर बनती है]

ध्यान केंद्रित और शांत रहें: डेडलिफ्ट एक एक्सरसाइज से ज्यादा वजन उठाने की प्रक्रिया है, जिसे आपको ध्यान केन्द्रित और शांत रहकर करना चाहिए। अगर आप अशांत और बिना ध्यान के साथ इस एक्सरसाइज को करेंगे तो आपके चोटिल होने या मसल्स में तनाव आने की संभावना बढ़ जाती है।

स्टांस सही रखें: डेडलिफ्ट करते हुए आपके स्टांस महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अलग-अलग बॉडी बिल्डर के स्टांस को लेकर अपने-अपने मत हो सकते हैं। लेकिन आपको डेडलिफ्ट का अभ्यास करते हुए ऐसे स्टांस रखने चाहिए, जिसमें आपको वजन उठाने में आसानी हो। आप जितने बेहतर तरीके से वेट उठाएंगे, शरीर उतना ही मजबूत बनेगा। [ये भी पढ़ें: डंबल वर्कआउट जो कार्डियो से बेहतर परिणाम देता है]

कंधों, कलाई और बारबेल की स्थिति: डेडलिफ्ट के दौरान आपको अपने कंधें, कलाई और बारबेल को एक सीध में रखना चाहिए। अगर आपकी बारबेल शरीर से दूर या पास रहेगी तो आपके शरीर को वजन उठाने में अधिक ऊर्जा खर्च करनी पड़ेगी और इससे कम रैप्स लग पाएंगे।

लैट्स मसल्स का इस्तेमाल करें:
things to remember while practicing deadlift exercise डेडलिफ्ट के अभ्यास के दौरान लैट्स मसल्स की भूमिका जरुरी होती है। आपकी लैट्स मसल्स जितनी टाइट रहेगी, उतनी ही रीढ़ की हड्डी की पोजीशन मजबूत रहेगी। जिससे आप वेट उठाने में ज्यादा ताकत लगा पाएंगे और एक्सरसाइज को आसानी से कर पाएंगे।

ग्रिप: डेडलिफ्ट करते हुए आपको बारबेल पर मजबूत पकड़ बनानी होती है। जिसकी वजह से आप शारीरिक ताकत का बेहतर इस्तेमाल कर पाएंगे। अगर आपकी ग्रिप ढीली या कमजोर रहेगी तो आपकी लक्षित मसल्स पर पूरा प्रभाव नहीं पड़ पाएगा और शारीरिक असंतुलन होने की भी आशंका बढ़ेगी। [ये भी पढ़ें: डेडलिफ्ट एक्सरसाइज को डंबल की मदद से कैसे करें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "