इन कारणों की वजह से जरुर करें स्क्वाट

Read in English
reasons why you should do squats

जब भी व्यक्ति एक्सरसाइज करने की सोचता है तो उसके दिमाग में सबसे पहले स्क्वाट आता है। लेकिन इन्हें करने में ज्यादा परेशानी होती है तो बहुत से लोग स्क्वाट करना पसंद नहीं करते हैं। वह इसके लिए अन्य पैरों की एक्सरसाइज करने के बारे में सोचते हैं। स्क्वाट शरीर की मजबूती बढ़ाने, शक्ति बढ़ाने और मास बिल्ड करने में मदद करता है। स्क्वाट कंधे, फोरआर्म, पैरों को मजबूती प्रदान करता है।अगर आप स्क्वाट नहीं करते हैं तो यह एक बड़ी गलती हो सकती है। तो आइए आपको कुछ कारण बताते हैं जिसे सुनकर आप अपने वर्कआउट में आज से ही स्क्वाट को शामिल कर लेगें। [ये भी पढ़ें: शानदार ट्राइसेप्स के लिए असरदार वेट एक्सरसाइज]

टेस्टोस्टेरोन बूस्ट करता है:
स्क्वाट करने से प्राकृतिक रुप से टेस्टोस्टेरोन का लेवल बढ़ता है। मसल्स बनाने के लिए टेस्टोस्टेरोन हार्मोन जरुरी होते हैं। इसका लेवल ठीक होने से शरीर को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। स्क्वाट करने के लिए रोजाना रेप्स को बदलते रहना चाहिए। जैसे पहले 4-8 रेप्स फिर, 9-15 इस तरह से रोजाना बढ़ाने चाहिए। जिससे मसल्स भी बनते हैं और शरीर स्वस्थ भी रहता है।

कई मांसपेशियां काम करती हैं:
बहुत कम एक्सरसाइज है जो स्क्वाट की तरह आपके शरीर की काफी सारी मांसपेशियों पर काम करती हैं। सही तरीके से स्क्वाट करने से कूल्हे, ग्लूट, कॉफ और हैमस्ट्रिंग की मांसपेशियां स्ट्रेच होती हैं। स्क्वाट करने का सबसे ज्यादा फायदा यह होता है कि यह शरीर के निचले हिस्से पर भी काम करता है। स्क्वाट करने से संतुलन बना रहता है। [ये भी पढ़ें: 21,15,9 की ट्रिक से अपर बॉडी को मस्कुलर बनाएं]

क्रॉसओवर:
क्रॉसओवर से मतलब रोजाना स्क्वाट करने से हैं। प्रतिदिन स्क्वाट करने से मसल्स बनाने के लिए जरुरी बाकि मांसपेशियों को भी मजबूती प्रदान करता है। जो लोग रोजाना स्क्वाट नहीं करते हैं वह बाकि लोगों की तुलना में कम वजन उठा पाते हैं। जांघों की मसल्स को मजबूत बनाने के लिए स्क्वाट करना जरुरी होता है।

स्पोर्ट्स-एक्यूलर:
स्पोर्ट्स के खिलाड़ियों को अपनी पॉवर दिखाने के लिए जांघ, हिप्स और ग्लूट का मजबूत होना जरुरी होता है। स्क्वाट इसके लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। यह हर मसल्स को मजबूत करके स्पोर्ट्स पर्सन की परफार्मेंस में सुधार लाने में मदद करता है। अपनी परफार्मेंस में और सुधार लाने के लिए प्लियोमेट्रिक टाइप स्क्वाट एक्सरसाइज बहुत फायदेमंद होती है।

घुटनों के लिए फायदेमंद:
घुटनों के लिए स्क्वाट काफी फायदेमंद होता है। डीप स्क्वाट घुटनों की स्टेबिलिटी को बढ़ाता है। स्क्वाट से घुटनों में चोट लगने की संभावना कम होती है। अगर आप सही वजन का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तभी इससे चोट लगती है। [ये भी पढ़ें: सुपरसेट वर्कआउट की मदद से बनाएं मजबूत और मस्कुलर बैक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "