मसल्स के दर्द को ठीक करने के लिए करें विटामिन और मिनरल्स का सेवन

Read in English
Muscle Cramps can be cured with Vitamins and Minerals

मांसपेशियों में होने वाले इन्वॉलेंट्री कॉन्ट्रैक्शन के कारण असहनीय दर्द होता है। इस दर्दनाक कॉन्ट्रैक्शन की वजह से मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने लगती है। हर किसी को शरीर के अलग-अलग मांसपेशियों में दर्द होता है जैसे- पैर का नीचला हिस्सा, जांघों पर, हाथों में या फिर गर्दन में। मांसपेशियों में चोट लगना, प्रेग्नेंसी, डिहाईड्रेशन, रक्त संचार का बेहतर ना होना, हाईपोथायरॉयडिज्म या फिर अधिक एल्कोहल का सेवन करने की वजह से मांसपेशियों में दर्द होने लगता हैं। इसके अलावा शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी मांसपेशियों में दर्द होता है। मिनरल्स और विटामिन्स की कमी होने के कारण दर्द होने लगता है। आइए जानते हैं मसल्स के दर्द को ठीक करने के लिए करें विटामिन और मिनरल्स का सेवन करना क्यों बेहतर होता है।  [ये भी पढ़ें: वर्कआउट जो 2 इंच तक बेली फैट कम करने में मदद करता है]

मैग्निशियम:
मांसपेशियों और नसों को सही से काम करने के लिए मैग्निशियम बहुत आवश्यक पोषक तत्व होता है। ये कैल्शियम को उत्तेजित करता है जो मांसपेशियों को मजबूती देता है और साथ ही उन्हें दर्द और ऐंठन से भी राहत दिलाता है। इसके अलावा मैग्निशियम पोटेशियम के अवशोषण को बढ़ाता है जो मांसपेशियों के लिए फायदेमंद होता है।

पोटेशियम:
शरीर में पोटेशियम की कमी के कारण मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने लगती है। इसके अलावा अधिक थकान भी महसूस होने लगती है। पोटेशियम मांसपेशियों को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक होता है। पोटेशियम सोडियम के साथ मिलकर सेल्स को नियंत्रित रखता है जो मसल्स कॉन्ट्रैक्शन को कंट्रोल करता है।  [ये भी पढ़ें: जॉगिंग करना आपको कैसे फिट रखता है]

कैल्शियम:
मसल्स हेल्थ और कैल्शियम इन्टेक के बीच एक मजबूत कनेक्शन होता है। कैल्शियम एक एलेक्ट्रोलाइट होता है जो नसों को राहत दिलाता है और मसल्स कॉन्ट्रैक्शन को रिलैक्स करने में मदद करता है। ऐसे में शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाने के कारण नर्व सेल्स संवेदनशील हो जाता है और ऐंठन और दर्द की समस्या का कारण बनते हैं।

सोडियम:
सोडियम मांसपेशियों को स्वस्थ और मजबूत रखने में मदद करता है। ये अन्य एलेक्ट्रोलाइट्स जैसे- पोटेशियम, मैग्निशियम और कैल्शियम के साथ मिलकर नसों को राहत पहुंचाता है और मांसपेशियों में होने वाले दर्द से निजात दिलाता है। शरीर में सोडियम की कमी के कारण डिहाईड्रेशन और पसीने की समस्या हो जाती है जिससे मांसपेशियों में दर्द होने लगता है।

विटामिन-डी:
विटामिन-डी हड्डियों और मांसपेशियों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। अगर आपके शरीर में विटामिन-डी की कमी हो जाती है तो मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होने लगता है। विटामिन-डी कैल्शियम को अवशोषित करता है जो मांसपेशियों के लिए लाभकारी होता है। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आपका शरीर वर्कआउट करने के लिए तैयार नहीं है]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "