लेग वर्कआउट करते हुए की जाने वाली गलतियों को ठीक करने का तरीका

mistakes that people do while leg workout and how to fix them

संपूर्ण शारीरिक फिटनेस और मजबूती के लिए आपके पैरों का मजबूत होना जरुरी होता है। क्योंकि आपकी अपर बॉडी का भार आपके पैरों को ही संभालना पड़ता है और चलने-दौड़ने जैसी दैनिक गतिविधियों में भूमिका निभानी होती है। इसलिए लेग वर्कआउट को अपने रूटीन में जरुर शामिल करें, लेकिन इस वर्कआउट का अभ्यास करते हुए आपको काफी सावधानियां बरतनी चाहिए, क्योंकि गलतियां करने से आपकी सारी मेहनत बेकार हो सकती है। आइये जानते हैं कि लेग वर्कआउट में लोग कौन-सी गलतियां करते हैं और उन्हें ठीक करने का क्या तरीका है। [ये भी पढ़ें: कार्डियो और वेट लिफ्टिंग का एक साथ अभ्यास करने के फायदे]

गलत टारगेट एरिया:
लेग वर्कआउट करते हुए आपको सही मसल्स को टारगेट करने के लिए पैरों की स्थिति का काफी ध्यानपूर्वक रखना होता है। कई लोग मानते हैं कि पैरों को चौड़ा रखने से आउटर क्वाड्स और अन्दर रखने से इनर क्वाड्स पर प्रभाव पड़ता है। लेकिन ऐसा मानना गलत है, क्योंकि स्मिथ मशीन स्क्वाट या सामान्य स्क्वाट के दौरान पंजों को अंदर रखने से आउटर क्वाड्स और बाहर रखने से इनर क्वाड्स पर दबाव पड़ता है। इसके साथ ही अपने पैरों को कूल्हों की सीध में ही रखें।

ज्यादा भारी वजन उठाना: लेग वर्कआउट में आपको बाकी सभी एक्सरसाइज के मुकाबले ज्यादा वजन उठाना चाहिए, लेकिन ऐसा करते समय ध्यान रखें कि आपकी एक्सरसाइज की मूवमेंट पूरी तरह से हो रही हो। क्योंकि ज्यादा वेट उठाने से आप पूरे रैप्स नहीं कर पाते हैं, जिससे इसका प्रभाव खत्म हो जाता है। इसलिए पूरे रैप्स करें और रैप्स की संख्या 8-12 के बीच रखें। [ये भी पढ़ें: आदतें जिनके कारण आपकी फिटनेस नहीं बढ़ पाती है]

गलत तरीके से स्क्वाट करना: अधिकतर लोग गलत तरीके से स्क्वाट करते हैं, जिससे एक्सरसाइज का प्रभाव पैरों की जगह कमर पर पड़ने लगता है। इसलिए स्क्वाट करते हुए अपने पैरों को ज्यादा ना खोलें और कूल्हों को नीचे लाते हुए कमर को सीधा रखने की कोशिश करें और इस तरह नीचे आएं जैसे कि आप किसी कुर्सी पर बैठने वाले हो। अब क्वाड्स मसल्स के जमीन के समानांतर आने पर शरीर को वापस सीधा कर लें।

थक जाने तक एक्सरसाइज नहीं करना: फ्रंट स्क्वाट्स, लेग प्रेस, वाकिंग लंज को बहुत लोग मसल्स के थक जाने तक नहीं करते हैं, ध्यान रखें कि जब तक आपके पैरों की मसल्स थक नहीं जाती उनपर प्रभाव नहीं पड़ता है। इसलिए एक्सरसाइज करते हुए पूरे रैप्स, आधे रैप्स और सुपरसेट की मदद से इसकी इंटेंसिटी बढ़ाएं, जिससे जल्दी नतीजा मिलेगा।

छोटे रैप्स करना: ज्यादा वेट उठाने से आपके रैप्स छोटे हो जाते हैं और मसल्स मजबूत नहीं बन पाती हैं। इसलिए ज्यादा वेट उठाने की जगह शरीर के सही पोश्चर और एक्सरसाइज के पूरी मूवमेंट पर ध्यान दें। [ये भी पढ़ें: चेस्ट मास बढ़ाने और बेंच प्रेस को बेहतर बनाने के टिप्स]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "