आर्म्स को कैसे बड़ा और मस्कुलर बनाएं

Read in English
how to make your arms bigger and muscular

photo credit: fatgripz.com

हाथों को बड़ा और मस्कुलर बनाकर पर्सनालिटी को बेहतर बनाया जा सकता है। बड़े और मस्कुलर हाथ सिर्फ आपकी पर्सनालिटी को नहीं बनाता हैं, बल्कि शारीरिक ताकत में भी बढ़ोत्तरी करता हैं। आर्म्स बाइसेप्स, ट्राइसेप्स और फोरआर्म्स तीन भाग में बंटा होता है। अधिकतर हर मसल्स की एक्सरसाइज में हाथों का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इन्हें मजबूत बनाने के लिए हफ्ते में एक दिन वर्कआउट करना काफी नहीं है। कुछ टिप्स की मदद से आप हर दिन अपने हाथों को मस्कुलर और बड़ा बनाने के लिए प्रभाव डाल सकते हैं। [ये भी पढ़ें: फिटनेस प्लान को फॉलो करने के फायदे]

अपने वर्कआउट में पुल-अप्स और चिन-अप्स शामिल करें:
पुलअप्स और चिनअप्स हाथों के लिए बहुत ही प्रभावी एक्सरसाइज होता है। इन एक्सरसाइज को करने से आपके सारी मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं। जब आप पुल-अप्स और चिन-अप्स करते हैं तो आपका हाथ आपके शरीर के भार को संभालते है। ये आपके हाथों को मजबूती प्रदान करता है और साथ ही मस्कुलर भी बनाता है।

सप्ताह में एक बार डेडलिफ्ट करें:
डेडलिफ्ट भी आपके फोरआर्म्स को मजबूती प्रदान करता है। कुछ एक्सरसाइज ही ऐसी होती हैं जिससे फोरआर्म्स की मांसपेशियां सक्रिय होती हैं। जब इंटेंस डेडलिफ्ट करते हैं तो वो आपके फोरआर्म्स की ताकत का इस्तेमाल करती हैं। इस एक्सरसाइज से आपके फोरआर्म्स पर प्रभाव पड़ता है और इस वजह से आपके मसल्स विकसित होते हैं। [ये भी पढ़ें: बातें जो डेडलिफ्ट करते समय याद रखनी चाहिए]

सप्ताह में दो बार बेंच प्रेस करें:
बेंच प्रेस करने की वजह से भी आपके हाथों में मजबूती आती है। जब आप बेंच प्रेस का अभ्यास करते हैं तो इससे आपके ट्राइसेप्स विकसित होते हैं। अपनी सहजता के अनुसार आप बेंच प्रेस का अभ्यास करें।

आर्म वर्कआउट की स्क्वाट से शुरुआत करें:
how to make your arms bigger and muscular आर्म वर्कआउट की स्क्वाट से शुरुआत करने पर बेहतर परिणाम प्राप्त होते हैं। स्क्वाट आपके हाथों की मसल्स में संतुलन पैदा करता है और मसल्स विकसित करने वाले हॉर्मोन का उत्पादन बढ़ाता है।

एयरडाइन मशीन का इस्तेमाल: एयरडाइन मशीन का इस्तेमाल करने से हाथों को पंप मिलता है। इसके पुश एंड पुल मूवमेंट हाथों की मसल्स को ताकत प्रदान करती है।

इंटेंसिटी बढ़ाएं: हाथों के लिए ज्यादा एक्सरसाइज करने की जगह 2-3 एक्सरसाइज के ज्यादा रैप्स करें। जिससे मसल्स को पर्याप्त दबाव मिलेगा और इंटेंसिटी बढ़ेगी। इससे जल्दी और बेहतर नतीजे मिलते हैं। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट जिससे बैक और बाइसेप्स मसल्स एक साथ मस्कुलर बनती है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "