इन खाद्य पदार्थों से कम होता हैं आपका मेटाबॉलिज्म रेट

Read in English
foods that slow down your metabolism

मेटाबॉलिज्म हमारे शरीर में मौजूद एक रासायनिक प्रक्रिया है, जो हमारे खानें में मौजूद पोषक तत्वों को ऊर्जा में बदलने का कार्य करता है। व्यक्ति के शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट जितना ज्यादा होता है, वह उतना ही ज्यादा एक्टिव होता है। सभी उम्र के लोगों में बच्चे सबसे ज्यादा एक्टिव इसलिए होते हैं क्योंकि उनके शरीर में मेटाबॉलिज्म रेट सबसे ज्यादा होता है। मेटाबॉलिज्म कम होने के कारण व्यक्ति का शरीर सुस्त हो जाता है और साथ ही साथ शरीर में फैट भी जमा होने लगता है। मेटाबॉलिज्म रेट के कम होने के पीछे गलत तरह के खाद्य पदार्थ हो सकते हैं। आइए जानते हैं इन खाद्य पदार्थों के बारे में जो आपके मेटाबॉलिज्म रेट को कम करने का काम करते हैं। [ये भी पढ़ें: काफ मसल्स के मजबूत बनाने के लिए करें इस तरह के एक्सरसाइज]

मैदा: मैदे का प्रयोग कई तरह की चीजो को बनाने में किया जाता है, इससे ब्रेड, पास्ता और न जाने क्या-क्या बनाकर हम लोग बड़े ही चाव से खाते हैं, लेकिन हम में से बहुत से ऐसे लोग हैं जिनको इसके दुष्प्रभाव के बारे में नहीं पूरी तरह से नहीं पता होता है। मैदे में फाइबर की सबसे कम मात्रा पायी जाती है। जो व्यक्ति की पाचन क्रिया पर सबसे ज्यादा नकारात्मक प्रभाव डालता है। जिसका असर व्यक्ति के मेटाबॉलिज्म रेट पर पड़ता है। इसलिए जितना कम से कम हो सके मैदा और उससे बनी चीजों का सेवन करें।

सेब: रोजाना एक सेब खाकर व्यक्ति डॉक्टर से हमेशा दूर रह सकता है। लेकिन यह पूरा सच नहीं है, सेब में फंगीसाइड की मात्रा सबसे ज्यादा होती है, जो वजन के बढ़ने का एक सबसे अहम कारण हैं। वजन बढ़ने का एक मात्र कारण है व्यक्ति के शरीर का मेटाबॉलिज्म रेट कम हो जाना। इसलिए जरूरी है कि यदि आप भी सेब व उससे बनी चीजों का सेवन कर रहें हैं तो इसके साथ-साथ एक्सरसाइज भी करें और आर्गेनिक फलों और सब्जियों का ही सेवन करें। [ये भी पढ़ें: इन आसान से तरीकों से बढ़ाएं इम्यून सिस्टम की क्षमता]

ओमेगा 6 फैटी एसिड: ओमेगा 6 फैटी एसिड हमारे शरीर के साथ-साथ हमारे दिमाग के लिए भी काफी अच्छा होता है। इसका सबसे अच्छा स्रोत- वालनट्स, चिया सीड्स और अंडें होते हैं।  लेकिन आज के समय में जिस तरह में फ़ूड तकनीक बदल रही है उसी के साथ खाने की चीजों में  पाए जाने वाले पोषक तत्वों में काफी कमी देखने को मिल रही है। जिसके कारण इस तरह के पोषक तत्वों के सेवन से व्यक्ति के बढ़ते वजन का तो कारण बनता तो है ही साथ ही साथ यह मेटाबॉलिज्म रेट को कम करता है। इसके साथ-साथ ओमेगा 6 फैटी के कारण  व्यक्ति के शरीर में इन्सुलिन की मात्रा भी बढ़ती है जिसके कारण शरीर में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट, फैट में बदल जाते हैं। [ये भी पढ़ें: सुबह की इन आदतों से रहें दिनभर तरोताजा]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "