फिटनेस से जुड़े मिथक जिन पर लोग विश्वास करते हैं

Read in English
fitness myths that people believe

सभी लोग चाहते हैं कि वह एक स्वस्थ जीवन जिएं और फिट रहें। वह एक्टिव और फिट रहना चाहते हैं लेकिन कभी-कभी आपके फिट रहने का लक्ष्य मिथकों की वजह से दूर हो जाता है। लोग फिट रहने के लिए स्मार्ट तरीके ढूंढना पसंद करते हैं। हालांकि वह इन स्मार्ट तरीकों को चेक भी नहीं करते हैं कि यह उनके लिए फायदेमंद है या सिर्फ एक गलतधारणा है। अगर आप किसी तरीके के तथ्यों के बारे में जाने बिना उन्हें फॉलो करने लगते हैं तो उन्हें पहले चेक कर लें। यह मिथक आपके फिटनेस पर हानिकारक प्रभाव डाल सकते हैं। शरीर का ध्यान रखने की बात आती है तो इनके तथ्यों और मिथकों के बारे में जान लें। [ये भी पढ़ें: व्यायाम आपको कैसे स्वस्थ और लंबा जीवन जीने में मदद करता है]

मिथक: आप जितना समय जिम में व्यतीत करते हैं उतना फिट रहते हैं: जब फिटनेस से जुड़े मिथक के बारे में बात होती है तो यह सबसे बड़ा मिथक है। जिसे कट कर देना ही बेहतर होता है। लोगों को लगता है कि वह जितना समय वर्कआउट करते हैं उनका शरीर उतना ही बेहतर बनता है। आपकी मसल्स को रिकवर होने के लिए भी समय की जरुरत होती है। अगर मसल्स को रिकवर होने के लिए समय ना दिया जाए तो मसल्स में खिंचाव आ जाता है।

मिथक: सिक्स पैक बनाने के लिए क्रंचेज काफी होते हैं: सभी चाहते हैं कि वह सिक्स पैक एब्स बनाएं और सोचते हैं कि क्रंचेज सबसे अच्छा तरीका है एब्स बनाने का। यह एक मिथक है आपको एब्स बनाने के लिए क्रंचेज के साथ बाकि एक्सरसाइज करनी भी जरुरी होती है। [ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के बाद करीना कपूर ने कैसे किया वजन कम]

मिथक: डेडलिफ्ट से आपको चोट लग सकती है: डेडलिफ्ट करते समय सही तकनीक का इस्तेमाल करना जरुरी होता है। जब भी डेडलिफ्ट करें उस समय सभी नियमों को फॉलो करें।

मिथक: वर्कआउट के बाद दर्द होना सामान्य होता है: जब आप वर्कआउट करते हैं तो थोड़ा बहुत दर्द होना सामान्य होता है। लेकिन अगर आपको बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है तो यह ठीक नहीं होता है। शायद आपको कोई समस्या हो सकती है।

मिथक: हैवीवेट से महिलाओं का शरीर बल्क हो जाता है: बहुत सी महिलाओं को लगता है कि अगर वह हैवीवेट उठाएंगी तो उनका शरीर पुरुषों की तरह फूल जाएगा। मगर ऐसा नहीं होता है महिलाओं के शरीर में कम मात्रा में टेस्टेस्टेरोन होता है जिसके बिना शरीर बल्की नहीं होता है। तो महिलाओं को हैवीवेट उठाने से कोई दिक्कत नहीं होती है। [ये भी पढ़ें: शानदार बाइसेप्स के लिए एक्सरसाइज]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "