बॉडीवेट एक्सरसाइज की मदद से अपनी कमर को मजबूत बनाएं

Read in English
bodyweight exercises that helps in strengthening your back

photo credit: seattleyoganews.com

छाती और बाइसेप्स की तरह आपकी बैक का मजबूत होना बहुत जरुरी है, क्योंकि आपकी अपर बॉडी की मजबूती और शेप निर्धारित करने में इसकी सबसे बड़ी भूमिका होती है। कमर को मजबूत बनाने के लिए वेटेड एक्सरसाइज से ज्यादा बॉडीवेट एक्सरसाइज प्रभावशाली होती हैं। बॉडीवेट एक्सरसाइज करने पर बैक को पूरा स्ट्रेच और मूवमेंट मिलता है, जिससे उसकी मजबूती बढ़ती है। आइये जानते हैं कि कौन-सी बॉडीवेट एक्सरसाइज की मदद से कमर को मजबूत बना सकते हैं। [ये भी पढ़ें: सोने से पहले एक्सरसाइज करना सही है या गलत]

मर्जर्यासन और बितिलासन:

यह एक्सरसाइज कमर और रीढ़ की हड्डी को मजबूती देता है साथ ही तनाव को दूर करता है। इसे करने के लिए घुटनों और हथेलियों को जमीन पर रख लें। अब सिर को नीचे रखते हुए कमर को ऊपर की तरफ उठाएं और फिर कमर को मोड़ते हुए छाती को ऊपर उठाएं। कुछ देर इसी प्रक्रिया को दोहराएं और धीरे-धीरे सांस लें।

फ्लोर वाई:

यह स्ट्रेच आपकी कमर के ऊपरी और मध्य भाग को स्ट्रेच करती है और मजबूती प्रदान करती है। इसे करने के पेट के बल जमीन पर लेट जाएं और दोनों हाथों को 45 डिग्री के कोण पर रखकर सीधा कर लें। अब पैरों और हाथों को एक साथ ऊपर उठाएं और रखें। इसी अवस्था में धीरे-धीरे सांस लें। [ये भी पढ़ें: बारबेल लिफ्ट एक्सरसाइज के नुकसानों से कैसे बचें]

पुल-अप्स:

कमर को मस्कुलर और वी-शेप में बनाने के लिए पुल-अप्स का अभ्यास करना चाहिए। इसे करने के लिए बार को कंधों के बराबर चौड़ाई से पकड़ लें। अब हाथों की ताकत लगाकर शरीर को ऊपर की तरफ ले जाएं। इसके 10 रैप्स के 3 सेट्स करें।

स्लाइडिंग लेग कर्ल:

इस एक्सरसाइज को करने के लिए जमीन पर कमर के बल लेट जाएं। अब कोहनियों को जमीन पर रखते हुए शारीरिक संतुलन बनाएं और कूल्हों तथा कमर को जमीन से उठा लें। अब एड़ियों को पास लाते हुए घुटनों के नीचे ले आएं और फिर वापस शुरूआती पोजीशन में ले जाएं। इसके 10 रैप्स के 3 सेट्स करें।

लोकस्ट पोज:

यह एक्सरसाइज रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाती है। इसे करने के लिए जमीन पर पेट के बल लेट जाएं और फिर पैरों को ऊपर की तरफ उठा लें। इसके बाद छाती और हथेलियों को ऊपर की तरफ करके जमीन से उठा लें। थोड़ी देर इसी अवस्था में रूकें और धीरे-धीरे सांस लें। [ये भी पढ़ें: एयर कंडीशनर वाली जगह पर वर्कआउट क्यों नहीं करना चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "