30 की उम्र के बाद अपनाएं ये बॉडीबिल्डिंग टिप्स

body building tips for people over the age of 30

एक उम्र के बाद बॉडीबिल्डिंग करना पहले जैसा नहीं रह जाता। तीस की उम्र के बाद शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं जिससे शरीर को बॉडीबिल्डिंग के लिहाज से कई तरह के अहतियात बरतने होते हैं। 30 की उम्र के बाद शरीर में वो क्षमताएं नहीं रह जाती जो पहले होती है इसलिए शरीर को ऐसे व्यायाम नहीं करने चाहिए जिनमे ज्यादा परेशानी हो। आज हम आपको 30 की उम्र में बॉडीबिल्डिंग से जुड़े कुछ सुझावों के बारे में बताएंगे। [ये भी पढ़ें: इन एक्सरसाइज की मदद से बनाए मजबूत कलाई]

1.आहार पर ध्यान दें: 30 की उम्र में यह जानन बेहद जरुरी हो जाता है कि कौन से भोज्य पदार्थ या कौन से सप्लीमेंट शरीर पर कैसा और क्या असर डाल रहे हैं। इस दौरान शरीर में चीनी के स्तर को मापना बेहद जरुरी हो जाता है। अपने जिम शेड्यूल के अनुसार ही अपने खाने का समय निर्धारित करें। खाने में पोषक तत्वों को शामिल करें और किस एक्सरसाइज से कितनी कैलोरी बर्न होती है और किस एक्सरसाइज के लिए कौन-कौन से पोषक तवों की जरूरत होती है। इस बात का ध्यान रखें।

2.पैरों को आराम दें: आमतौर पर बॉडीबिल्डर हफ्ते में एक बार पैरों को मजबूत करने वाले एक्सरसाइज जरुर करते हैं पर 30 की उम्र के बाद हफ्ते में एक बार पैरों से जुड़े एक्सरसाइज करना सही नहीं होता है। 30 की उम्र में पैरों को मजबूत करने वाले एक्सरसाइज हर 10-14 दिन बाद हीं करें। अगर जब लगे की पैरों के मसल्स लूज या फ्लैट हो रहे हैं तब कार्डियो एक्सरसाइज करना शुरू कर दें। [ये भी पढ़ें: इन एक्सरसाइज की मदद से बनायें ट्रेपजियम मसल्स]

3.बल्क मसल्स न बनायें: 30 की उम्र के बाद शरीर के लिए बल्क मसल्स गेन करना मुश्किल हो जाता है। मसल्स बनाने की वजह से शरीर पर स्ट्रेच मार्क बन सकते हैं। अगर शरीर का साइज़ बढ़ाना है तो आहार में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाएं।

4.ट्रेनिंग प्रोग्राम: 30 की उम्र में आने के बाद व्यक्ति को बॉडीबिल्डिंग के किसी सही ट्रेनर के निर्देश में ट्रेनिंग प्रोग्राम करने चाहिए। अगर आपने कभी किसी बॉडीबिल्डिंग प्रोग्राम में हिस्सा नहीं लिया है तो पहली बार फुल बॉडी ट्रेनिंग के साथ शुरुआत करें। अपने ट्रेनिंग में डेडलिफ्ट, बेंच प्रेस, डिप्स, रोज और कर्ल जैसे एक्सरसाइज करें।

5.लाइफस्टाइल में बदलाव: बॉडीबिल्डिंग लाइफस्टाइल बहुत ही कठिन होता है। इसमें समय पर खाना समय पर सोना और समय पर एक्सरसाइज करना जरुरी होता है। हमेशा समय पर खाएं और अपने पास ऐसे स्नैक रखें जो स्वास्थ्यवर्धक हों और भूख लगने पर खाए जा सकें। ऐसे एक्सरसाइज न करें जिससे शरीर में खिंचाव उत्पन्न हों। [ये भी पढ़ें: इन शानदार ट्रेनिंग एक्सरसाइज से पाए मस्कुलर चेस्ट]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "