खास टिप्स जो पुल-अप्स एक्सरसाइज को आसान बना देंगे

Read in English
amazing tips to make pull ups exercise easier

पुल-अप्स एक बेहतरीन संपूर्ण शारीरिक एक्सरसाइज है, जो आपकी बाइसेप्स, चेस्ट और लैट्स मसल्स और बाकि सभी मसल्स पर बराबर प्रभाव डालकर शरीर को मजबूत बनाती है। शरीर को मजबूत बनाने के साथ यह आपकी मसल्स का विकास और संतुलन बनाने में भी मदद करती है। लेकिन अधिकतर लोगों के लिए पुल-अप्स का अभ्यास करना आसान नहीं होता है और वह अपने आपको इसे करने में असफल महसूस करते हैं। आइए जानते हैं कि किन खास टिप्स को अपनाकर पुल-अप्स एक्सरसाइज को आसान बनाया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: मस्कुलर चेस्ट के लिए असरदार सुपरसेट वर्कआउट]

1.लटकने का तरीका: अधिकतर लोग पुल-अप्स के लिए बार पर लटकते हुए या अपने शरीर का संतुलन बनाते हुए गलती करते हैं। जब आप बार पर लटक रहे हों, तो अपने हाथों को कंधों की चौड़ाई के बराबर चौड़ा रखें और कमर और पैरों को सीधा रखें। अब अपने शरीर को ऊपर उठाते हुए बाइसेप्स और कंधों से ताकत का इस्तेमाल करें। ध्यान रखें कि बार पर आपकी पकड़ मजबूत हो।

2.असिस्टेड पुल-अप्स: जब आपको बार पर लटकने और शरीर का संतुलन बनाने का तरीका आ जाए, तो अपने जिम पार्टनर या जिम ट्रेनर की सहायता लेकर पुल-अप्स करने की कोशिश करें। इससे आपके शरीर की क्षमता का विकास होगा। [ये भी पढ़ें: कंधों की रियर डेल्ट्स मसल्स को मजबूत बनाने के लिए एक्सरसाइज]

3.नेगेटिव पुल-अप्स:

पुल-अप्स को आसान बनाने के लिए आपको नेगेटिव पुल-अप्स का अभ्यास करना चाहिए। यह आपके शरीर की ताकत बढ़ाने में असरदार साबित होता है। इसे करने के लिए आपको गति का इस्तेमाल करना होगा। बार को पकड़ने के लिए कूदें और बार को पकड़ते ही गति का इस्तेमाल करते हुए शरीर को ऊपर उठाएं। अगर बार ज्यादा ऊंचाई पर है, तो आप किसी स्टूल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

4.चिन-अप्स: चिन-अप्स भी पुल-अप्स की तरह होते हैं और यह थोड़े आसान होते हैं, बस इसमें शरीर को उठाने के लिए आपको बाइसेप्स की ताकत का इस्तेमाल करना होता है। चिन-अप्स करने के लिए हथेलियों को अपनी तरफ रखकर बार को कंधों के बराबर चौड़ाई से पकड़ें और शरीर को ऊपर उठाएं। चिन-अप्स आपकी वजन उठाने की क्षमता का विकास करेगी और इससे आपको पुल-अप्स करने में भी आसानी होगी।

5.पुल-अप्स: ऊपर बताए गए सभी टिप्स को अपनाने के बाद आप पुल-अप्स करने के लिए तैयार हैं। अब आपको पुल-अप्स करते हुए ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा और आप जरुरी सेट्स और रैपेटीशन कर सकेंगे। इसके लिए बार को कंधों की चौड़ाई से पकड़ें और बाइसेप्स और कंधों की ताकत से शरीर को ऊपर उठाएं। अब धीरे-धीरे शरीर को वापस लेकर आएं। बेहतर परिणाम के लिए इसके 8-10 रैप के 3-4 सेट्स करें। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट के बाद भी मसल्स ना बनने के पीछे होने वाले कारण]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "