रोजाना प्लैंक करने से आपके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव

amazing benefits of doing plank everyday

शरीर की मजबूती और ताकत बढ़ाने के लिए बॉडीवेट एक्सरसाइज काफी प्रभावशाली होती हैं। प्लैंक भी एक बॉडीवेट एक्सरसाइज है, जो आपके वजन के द्वारा ही मसल्स को मजबूती और स्थिरता प्रदान करते है। प्लैंक मसल्स को प्रभावित करते हैं साथ ही इसे आप कहीं भी और कभी भी कर सकते हैं। यह एक्सरसाइज दिखने में काफी आसान लगती है, लेकिन इसका अभ्यास करने में आपकी मसल्स को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। रोजाना प्लैंक करने से आपके शरीर पर कई प्रभाव पड़ते हैं, तो आइए आपको उन्हीं प्रभावों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: स्ट्रेंथ एक्सरसाइज जिनकी आपको हमेशा जरुरत पड़ेगी]

प्लैंक करने का तरीका:

प्लैंक करने के लिए सबसे पहले आप अपनी हथेलियों को कंधों के ठीक नीचे जमीन पर रखें और शरीर के निचले हिस्से का भार पंजों पर टिकाएं। अब कमर, कूल्हों और कंधों को एक सीध में रखें और कुछ देर इसी अवस्था में रहें। अगर आप इस एक्सरसाइज को ज्यादा प्रभावशाली बनाना चाहते हैं, तो अपनी हथेलियों की जगह फोरआर्म्स को जमीन पर टिकाएं।

पेट की मसल्स मजबूत बनती है: प्लैंक करने का सबसे बड़ा फायदा है कि यह आपकी पेट की मसल्स (कोर मसल्स) को मजबूत बनाते हैं। इस हिस्से वह सभी मसल्स आती हैं, जो आपके शरीर के ऊपरी और निचले हिस्से को जोड़ने का काम करती हैं और आपको चलने-फिरने, मुड़ने, बैठने जैसी गतिविधियों में सहायता प्रदान करती हैं। इससे आपके शरीर की कार्यक्षमता बढ़ती है। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट के बाद रेस्ट डे के दिन क्या करने से मसल्स जल्दी विकसित होती हैं]

कमर को मजबूती:
amazing effects of daily practicing plank on body कुछ एक्सरसाइज कोर मसल्स को मजबूत बनाने के साथ कमर पर बुरा प्रभाव डालती हैं या चोटिल कर सकती हैं। लेकिन प्लैंक एक्सरसाइज कोर मसल्स के साथ बैक मसल्स को भी मजबूत बनाती हैं। इसका अभ्यास करने से निचली कमर और रीढ़ की हड्डी मजबूत बनती है। इसके साथ ही शरीर का लचीलापन बढ़ता है।

फैट बर्न: प्लैंक के सेट्स ज्यादा देर तक या जल्दी करने से किसी भी एक्सरसाइज के मुकाबले ज्यादा फैट बर्न होता है। शरीर के भार को हाथों और पैरों की मदद से संभालने पर ह्रदय गति बढ़ने लगती है और मेटाबॉलिज्म रेट तेज होता है। जिससे शरीर पर अतिरिक्त फैट नहीं जम पाता है।

लचीलापन बढ़ता है: शरीर का लचीलापन बढ़ने से शरीर के चोटिल होने का खतरा कम हो जाता है। प्लैंक एक्सरसाइज आपके कंधों, हैमस्ट्रिंग और कालर बोन पर खिंचाव डालकर उन्हें लचीला बनाती है। जिससे मसल्स पर तनाव नहीं पड़ पाता है, सूजन या चोट लगने की आशंका कम हो जाती है।

शारीरिक पोश्चर सुधरता है: प्लैंक एक्सरसाइज में आपको कमर, कूल्हें और कंधें एक सीध में काफी देर तक रखने होते हैं, जिस वजह से इनकी स्थिति ठीक होती है और आपके शरीर का पोश्चर सुधरता है। [ये भी पढ़ें: हाई-रैप सर्किट में कौन सी एक्सरसाइज का अभ्यास करना है बेहतर]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "