वैक्सिंग स्ट्रिप्स का इस्तेमाल करने से क्या नुकसान होते हैं

Read in English
Side Effects Of Using Waxing Strips

बहुत कम महिलाएं ऐसी होती हैं जो अपने बालों को निकालने के लिए स्ट्रिप्स का इस्तेमाल नहीं करती हैं। दरअसल, स्ट्रिप्स का उपयोग इसलिए किया जाता है क्योंकि यह आपके शरीर के हर छोटे बालों को जड़ से निकालने का सबसे अच्छा तरीका होता है। इतना ही नहीं, वैक्सिंग करने से बालों की विकास भी कम हो जाती है और बाल आने में भी थोड़ा समय लगता है। यही कारण है कि महिलाएं वैक्सिंग स्ट्रिप्स का इस्तेमाल करना चाहती हैं। लेकिन साथ ही इसके कई नुकसान भी होते हैं क्योंकि त्वचा बहुत संवेदनशील होती है और इस वजह से स्किन इंफेक्शन होने की संभावना भी बढ़ जाती है। वैक्सिंग की वजह से त्वचा पर जलन और खुजली जैसी परेशानी भी होने लगती है। आइए जानते हैं वैक्सिंग स्ट्रिप्स का इस्तेमाल करने से क्या नुकसान होते हैं। [ये भी पढ़ें: हर तरह की त्वचा को खूबसूरत बनाता है टमाटर फेसपैक]

स्किन रिएक्शन:
जब आप अपनी त्वचा पर गर्म वैक्स या ठंडा वैक्स लगाते हैं, तो वैक्स में होने वाली सामग्री आपकी त्वचा को प्रभावित कर सकती है। इसकी वजह से त्वचा पर लालीपन और सूजन जैसी समस्या हो सकती है। एलर्जी और विभिन्न प्रकार के पींपल्स भी आ सकते हैं। बाजार में मिलने वाले वैक्स हानिकारक भी हो सकते हैं क्योंकि उनमें कई प्रकार के केमिकल होते हैं जो त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

दर्द:
दर्द के बिना वैक्सिंग असंभव होता है। यह स्वाभाविक है कि जब आप अपने बालों को खींचतें हैं तो आपकी त्वचा भी खींचती है जिसकी वजह से दर्द बढ़ जाता है। कोई अन्य तरीका नहीं है जिससे आप बिना दर्द के वैक्स कर सकते हैं। कभी-कभी वैक्सिंग स्ट्रिप्स की वजह से ब्लड क्लॉट भी बन जाते हैं क्योंकि स्ट्रिप्स को खिंचते वक्त बालों के साथ-साथ त्वचा भी खिंच जाती है। [ये भी पढ़ें: ब्लीच करना त्वचा के लिए हो सकता है हानिकारक]

छोटे-छोटे बाल रह जाना:
छोटे-छोटे बाल एक परेशानी की समस्या होते हैं। वैक्सिंग करने की वजह से बाल त्वचा के अंदर ही छूट जाते हैं जिसकी वजह से असहजता महसूस होती है। इसके कारण कई बार त्वचा पर लाल रंग के बंप्स भी हो जाते हैं जिसके कारण जलन और खुजली होने लगती है।

संक्रमण:
वैक्सिंग स्ट्रिप्स आमतौर पर त्वचा के लेयर को भी खिंच देती है। इस वजह से टैनिंग भी कम हो जाती है। लेकिन इसकी सबसे खराब बात यह है कि इसकी वजह से कीटाणु त्वचा पर रह जाते हैं जिसकी वजह से इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए वैक्सिंग के बाद हमेशा एंटी-इंफेक्टिव वॉटर सॉल्यूशन का इस्तेमाल करना चाहिए।

ब्लिडिंग:
कुछ लोगों को त्वचा के बहुत छोटे छिद्रों से रक्तस्राव का अनुभव होता है। यह बालों को खींचने के कारण होता है। कभी-कभी बाल खींचने से त्वचा को भी हानि पहुंचाता है और खून खींचता है जिससे संक्रमण और सूजन भी हो सकता है। यही कारण है कि वैक्सिंग के बाद एंटी-इंफेक्टिव वॉटर सॉल्यूशन का उपयोग करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: वर्कआउट के बाद स्किन की देखभाल कैसे करें]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "