सनस्क्रीन लगाते समय रहे सावधान हो सकते है इसके दुष्प्रभाव

Side Effects Of Using Sunscreen You Should Be Aware Of

गर्मियों के मौसम में घर से बाहर धूप में निकलते समय ज्यादातर लोग चेहरे पर सनस्क्रीन लगाकर बाहर निकलते हैं। सूरज की किरणों से चेहरे की रक्षा करना ठीक है लेकिन उन सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना जिनमें रसायन तत्वों की मात्रा ज्यादा हो चेहरे के लिए हानिकारक हो सकता है। सनस्क्रीन में मौजूद हानिकारक तत्त्व कई तरह की समस्याएं उत्पन्न कर सकते हैं। आइए जानते हैं बहुत ज्यादा केमिकल युक्त सनस्क्रीन के इस्तेमाल से त्वचा में क्या-क्या समस्याएं उत्पन्न हो सकती है [ये भी पढ़ें: जानें ब्लैकहेड्स से छुटकारा पाने के उपाय]

1. एलर्जिक रिएक्शन:
सनस्क्रीन में ऐसे रासायन पाए जाते हैं जो त्वचा में जलन पैदा कर सकती है। इनके इस्तेमाल से त्वचा में लालीपन, सूजन और खुजली की समस्या उत्पन्न हो सकती है। यह समस्याएं सनस्क्रीन को खुशबूदार और लम्बे समय तक सुरक्षित रखने वाले प्रीजरवेटिव में मौजूद रसायन की वजह से हो सकते हैं। दरअसल ज्यादातर सनस्क्रीन में पीएबीए नामक तत्व पाए जाते हैं जिनमें एलर्जिक तत्वों की मात्रा ज्यादा होती है। बाजार में ऐसे सनस्क्रीन मौजूद हैं जिनमे पीएबीए की मात्रा नहीं होती या फिर बहुत कम होती है। हमेशा ऐसे ही सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए जिसमें पीएबीए की मात्रा कम हो।

2. सनस्क्रीन मुंहासों की समस्या को और भी बढ़ा सकता है:
अगर आपके चेहरे पर मुंहासे ज्यादा है तो सनस्क्रीन में मौजूद रसायन इस समस्या को और भी ज्यादा परेशानी भरा बना सकता है। मुंहासों की समस्या से ग्रस्त लोगों को हमेशा नॉन कॉमेडोजेनिक और नॉन ऑयली सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चहिये। बॉडी सनस्क्रीन को चेहरे पर नहीं लगाना चाहिए। [ये भी पढ़ें: उपाय जो बना देंगे कोहनी की त्वचा को मुलायम]

3. आंखों में जलन:
सनस्क्रीन का प्रभाव आंखों में पड़ने पर आंखों में जलन की समस्या उत्पन्न हो सकती है। अगर सनस्क्रीन गलती से आंखों में चला जाए तो उसे तुरंत ठन्डे पानी से धो लेना चाहिए।

4. बालों के फॉलिकल में पीब(पस) का निर्माण करता है:
सनस्क्रीन के इस्तेमाल से चेहरे पर खुजली हो सकती है जो बाद में लाल रंग के धब्बों में तब्दील हो सकती है। कभी-कभी चेहरे पर मौजूद हेयर फॉलिकल में पस भी भर जाता है।

सनस्क्रीन से होने वाले दुष्प्रभाव को रोकने के तरीके:
* अगर सनस्क्रीन लगाने से चेहरा लाल होता है या फिर खुजली होती है तो तुरंत चेहरे को पानी से धो लेना चाहिए।
*किसी भी नए तरह के सनस्क्रीन का इस्तेमाल करने से पहले किसी डर्मेटोलॉजिस्ट या फार्मासिस्ट से सलाह जरुर लें।
*अगर आप लिप बाम सनस्क्रीन का इस्तेमाल करते हैं तो उसे सिर्फ होठों पर ही लगायें।
* 6 महीने से कम उम्र के बच्चों पर किसी भी तरह के सनस्क्रीन का इस्तेमाल ना करें।
* हमेशा आयल फ्री और नॉन कोमेडोजेनिक सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।  [ये भी पढ़ें: आइस क्यूब के इस्तेमाल से निखारें चेहरे की सुन्दरता]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "