अपनी त्वचा के प्रकार के बारे में कैसे जानें

Read in English
how to determine your skin type

ब्यूटी रुटीन को बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपनी त्वचा के प्रकार के बारे में पता होना चाहिए। त्वचा के प्रकार के बारे में पता ना होने पर और गलत प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। सारे प्रोडक्ट आपकी त्वचा के अनुसार नहीं बने होते हैं। ऐसा जरुरी नहीं होता है कि जो प्रोडक्ट बाकि लोगों को सूट करें वो आपके लिए भी फायदेमंद हो। ऐसा त्वचा के प्रकार की वजह से होता है। अगर किसी व्यक्ति की त्वचा शुष्क है तो वह तैलीय त्वचा वाले व्यक्ति के प्रोडक्ट्स इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। उन प्रोडक्ट में मौजूद एसिड आपकी त्वचा को और शुष्क बना सकते हैं। त्वचा को नुकसान पहुंचने से बचाने के लिए आपको उसके प्रकार के बारे में पता होना जरुरी होता है। तो आइए आपको त्वचा के प्रकार के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: मेकअप रिमूव करना क्यों जरुरी होता है]

सामान्य त्वचा: जिन लोगों की त्वचा सामान्य होती है उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं होती है। बस कुछ समस्याओं से त्वचा को बचाना पड़ता है। सामान्य त्वचा वाले व्यक्ति को बहुत कम मेकअप का इस्तेमाल करना चाहिए। इस तरह की त्वचा ना ज्यादा तैलीय होती है ना ही ज्यादा शुष्क। इस त्वचा के प्रकार में आपको हाइपरपिंगमेंटेशन की परेशानी भी नहीं होती है।

शुष्क त्वचा: शुष्क त्वचा होने पर आपको पूरे दिन त्वचा बहुत ही टाइट महसूस होती है। त्वचा शुष्क होने के पीछे का कारण लाइफस्टाइल, डाइट, हार्मोनल बदलाव और वातावरण के साथ डिहाइड्रेशन की वजह से भी त्वचा शुष्क हो जाती है। शुष्क त्वचा में कोलेजन का उत्पादन कम हो जाता है। [ये भी पढ़ें: तैलीय त्वचा पर लंबे समय तक मेकअप कैसे लगा रहे]

संवेदनशील त्वचा: जिन लोगों की त्वचा संवेदनशील होती है उन्हें अपने चेहरे का खास ध्यान रखना पड़ता है। स्किन केयर में थोड़ा सा बदलाव करने पर त्वचा पर रैशेज होने लगते हैं। संवेदनशील त्वचा को लालपन, केपेलरी का टूटने, पैचेज से पहचाना जा सकता है। अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो एल्कोहल वाले टोनर का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। इससे आपकी त्वचा पर जलन हो सकती है। संवेदनशील त्वचा को ठीक रखने के लिए नेचुरल प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने की कोशिश करा करें।

तैलीय त्वचा: तैलीय त्वचा का ध्यान रखना थोड़ा मुश्किल होता है। तैलीय त्वचा पर मुंहासें, ब्लैकहैड और वाइटहैड बहुत जल्दी हो जाते हैं। ऐसा रोमछिद्रों के खुले होने की वजह से होता है। तैलीय त्वचा होने पर आपकी त्वचा पर सीबम का अत्यधिक मात्रा में उत्पादन होता है। जिसे कम करने के लिए सैलिसिलिक एसिड या टी ट्री ऑयल वाले प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए।

कॉम्बीनेशन त्वचा: अगर आपकी त्वचा कॉम्बीनेशन है तो इसमें चेहरे के कुछ क्षेत्र पर तेल तो कुछ जगह शुष्क होती है। जिन लोगों की कॉम्बीनेशन त्वचा होती है उन्हें मुंहासें और ब्लैकहेड बहुत जल्दी होते हैं। अगर आपकी कॉम्बीनेशन स्किन है तो आपको रोजाना क्लिंजिंग, टोनिंग और मॉइश्चराइजिंग करनी चाहिए। [ये भी पढ़ें: त्वचा के लिए किस प्रकार संतरे का छिलका लाभकारी होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "