जगहें जिनको स्पर्श करने से महिलाएं हो जाती हैं बेकाबू

यौन संबंध के दौरान महिलाओं को टर्न ऑन करने के कई तरीके होते हैं, जिनसे आप इंटिमेसी को बढ़ा सकते हैं। ऐसा ही एक तरीका स्पर्श करना होता है, आप महिलाओं को कुछ खास जगहों पर स्पर्श करके टर्न ऑन कर सकते हैं और यौन संबंध के दौरान आनंद का अनुभव कर सकते हैं। महिलाओं के शरीर की ये जगहें ज्यादा संवेदनशील होती हैं, जो उनकी उत्तेजना बढ़ाने में काफी प्रभावशाली होती हैं। आइये जानते हैं कि महिलाओं को किन जगहों पर स्पर्श करने से यौन सुख बढ़ाया जा सकता है।

1.होठ:
touching these spot can make women stimulateयौन संबंध के दौरान कई पुरुष महिलाओं के होठों को स्पर्श करना भूल जाते हैं। महिलाओं के होठों पर किस करने से वह बहुत जल्दी उत्तेजित होती हैं। इसमें और ज्यादा अनुभव प्राप्त करने के लिए आप महिला साथी की पसंद का भी ख्याल रखें, जैसे फ्रेंच किस, टंग किस या सिंगल लिप किस आदि।

2.ईयर लोब: ईयर लोब बहुत ज्यादा संवेदनशील भाग होता है, जिसे स्पर्श करने पर महिलाएं उत्तेजित होने लगती हैं। ईयर लोब के पास सेंसिटिव नसों का जमावड़ा होता है, जिन्हें सहलाने से महिलाएं बेकाबू होने लगती हैं।

3.गर्दन: गर्दन की त्वचा काफी नाजुक होती है, जिसे स्पर्श करने से महिला आपकी ओर खिंची चली आती है। गर्दन के पीछे की तरफ स्पर्श करने से वह आपकी तरफ भावनात्मक रूप से भी जुड़ जाती है। आप यहां पर अपने होठों, जीभ और दांतों से भी स्पर्श कर सकते हैं, ऐसा करने पर महिला ज्यादा उत्तेजित हो जाती है।




4.नाभि: यह बात बहुत कम पुरुष जानते हैं कि नाभि को स्पर्श करने से महिला यौन संबंध में ज्यादा आनंद प्राप्त करती हैं। यह हिस्सा योनी के ज्यादा करीब होता है, जिस वजह से इसे जीभ से सहलाने से महिलाओं को अधिक उत्तेजना होती है।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "